खरसिया। Raigarh News : विकासखंड के नवापारा पश्चिम में 11 वर्षों से भवन के अभाव में ही आंगनबाड़ी संचालित हो रही है। जबकि शासन द्वारा भवन निर्माण के लिए राशि भी स्वीकृत कर दी गई है, परंतु जनप्रतिनिधि राशि न मिलने का हवाला देकर निर्माण को अधूरा छोड़ चुके हैं।

ग्राम नवापारा में इंदिरा आवास और भाटापारा मोहल्ले के नौनिहालों के लिए 2011 से बिना भवन के ही आंगनबाड़ी का संचालन किया जा रहा है। ऐसे में इन मासूमों को कभी किसी के अहाते में पढ़ने जाना पड़ता है तो कभी किसी और की परची में। जनप्रतिनिधियों की उपेक्षा से अब तक यहां के बधाों को भवन नसीब नहीं हो पाया।

वहीं, काफी जद्दोजहद के बाद जब शासन ने राशि स्वीकृत भी कर दी, तब भी जनप्रतिनिधियों द्वारा राशि का अभाव बना कर बिल्डिंग के निर्माण को अधूरा छोड़ दिया गया है। बता दें ग्राम नवापारा में दो आंगनबाड़ी भवन निर्माण की स्वीकृति मिली है। वहीं विभाग द्वारा दोनों भवनों के निर्माण के लिए अग्रिम 2 लाख 90 हजार रुपए जारी कर दिए गए हैं।

मगर, चंदवारी पारा मोहल्ले में भवन निर्माण किया गया है और दो मोहल्लों के बीच बन रही आंगनबाड़ी को अधूरा ही छोड़ दिया गया है। वहीं पंचायत की मानें तो विभाग द्वारा राशि ना मिलने की वजह से काम अधूरा छोड़ा गया है। जबकि चंदवारी पारा में आंगनबाड़ी के लिए बिल्डिंग के अतिरिक्त स्टोर रूम भी निर्मित किया गया है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस