रायगढ़ (नईदुनिया प्रतिनिधि) । शहर से लेकर गांव-गांव में कांक्रीटकरण तेजी से हो रहा है। हरे-भरे पेड़ों को निर्मतार्पूवक काटा जा रहा है। पर्यावरण की चिंता निजी स्वार्थ के आगे बेमानी साबित हो रहे हैं। लोग हरियाली को बचाने उसकी सुरक्षा का संकल्प लेना भूल रहे है। ऐसे में तमनार विकासखंड के 16 से अधिक गांवों के ग्रामीणों ने रक्षाबंधन के अवसर पर पेड़ों को राखी बांधकर उनकी रक्षा का संकल्प लिया। ग्रामवासी जल और जंगल बचाने के लिए विभिन्ना तरीके से वर्ष 2010 से आंदोलनरत है। माइंस व उद्योग का हर स्तर पर विरोध करते हैं। कोल सत्याग्रह कर 'मेरी जमीन मेरा कोयला' का नारा बुलंद कर कोयला खनन किया।

ग्रामीणों का मानना है कि तमनार में कोल माइंस के खुलने से यहां का प्राकृतिक जीवन प्रभावित हुआ है। जल, जंगल और जमीन का दोहन व्यपाक स्तर में हुआ है। जिससे पर्यावरण में काला जहर घुल गया है। लोगों की जीवनचर्या अस्त-व्यस्त होने लगी है। आधुनिकीकरण से प्रदूषण के मामले में रायगढ़ जिला प्रदेश में प्रथम पायदान में है। इन स्थिति परिस्थितियों को देखते हुए पर्यावरण को बचाने का बीड़ा तमनार ब्लाक के लोगों ने उठाया है। रक्षाबंधन पर्व पर पेलमा, सरसमाल, सराईटोला, खम्हरिया, मिलुपारा, सत्ता, कुंजेमुरा समेत 16 गांव के ग्रामवासियों ने गारे ग्राम में 250 एकड़ में फैले कोसा बाड़ी में पेड़ों को राखी बांधी और उनकी सुरक्षा का संकल्प लिया।

हरियाली को बचान की कवायद

तमनार में कोयला खनन किया जा रहा है। इससे यहां की हरियाली खत्म रही है। इसे देखते हुए यहां के लोग हरियाली बचाने की कवायद कर रहे हैं। पेड़ पौधों को राखी बांधते हैं। राखी बांधकर सुरक्षा का संकल्प लेते हैं। इन दिनों लोग फोटो खिंचाने के बाद पेड़ों की सुरक्षा भूल जाते हैं, उनको ध्यान दिलाने भी तमनार के रहवासियों ने यह पहल की है। उनका मानना है कि पेड़ हमको आक्सीजन, हरियाली, फूल, फल, लकड़ी आजीविका के साधन देते हैं। फिर भी लोग उनकी देखभाल नहीं करते हैं।

बधो-बड़े सभी हुए शामिल

रक्षाबंधन के दिन तमनार ब्लाक में चलाए गए पेड़ की सुरक्षा अभियान में बधो-बड़े, बुजुर्ग, महिलाओं समेत सामाजिक संस्थाओं ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। ग्रामीणों ने बताया कि यह अभियान विगत 11 वर्षों से चल रहा है । इससे जागरूकता लाकर पेड़ पौधे को बचाने का प्रयास किया जाएगा। जितनी हरियाली होगी उतना ही नगर की आबोहवा शुद्घ होगा।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close