0 प्रत्येक परियोजना में दर्ज होगा डीआईआर

रायगढ़ (निप्र)। घरेलू हिंसा की शिकार महिलाएं महिला बाल विकास विभाग की प्रत्येक परियोजना में अपनी शिकायत दर्ज करा सकती हैं। इसके लिए विभाग ने महिला कानूनी सलाहकार की नियुक्ति भी कर ली है। घरेलू हिंसा की शिकार महिला विभाग की नजदीकी परियोजना कार्यालय में पहुंचकर आवेदन कर सकती हैं। इसके बाद आगे का काम महिला अधिवक्ता का होगा।

दरअसल घरेलू हिंसा की शिकार महिलाएं लोक लाज के भय से थाना पुलिस के चक्कर में नहीं पड़ना चाहती हैं, जिससे वे लगातार प्रताड़ना की शिकार होती रहती हैं। अब ऐसी प्रताड़ित महिला नजदीकी की किसी भी महिला बाल विकास के परियोजना कार्यालय में पहुंचकर आवेदन दे सकती हैं। इसके बाद आवेदन पर त्वरित कार्रवाई करते हुए जानकारी जिला कार्यालय को दी जाएगी। इसके बाद शासन से नियुक्त अधिवक्ता व कानूनी जानकार महिला की शिकायत पर जांच कर कार्रवाई शुरू करेंगे। महिला की शिकायत पर आवश्यक जानकारी एकत्रित करने के बाद अधिवक्ता द्वारा डीआईआर दर्ज कर मामले को न्यायालय में प्रस्तुत किया जाएगा।

समिति करेगी छानबीन

घरेलू हिंसा की शिकार महिला द्वारा आवेदन देने के बाद नियुक्त समिति महिला के पते पर पहुंच कर गुप्त तरीके से जांच करेगी। जिसमें आस-पड़ोस के लोगों से भी पूछताछ होगी। महिला व उसके परिवार के सारे तथ्य एकत्रित किए जाएंगे और डीआईआर दर्जकर न्यायालय में प्रकरण चलाया जाएगा। प्रताड़ित महिला की ओर से शासन द्वारा नियुक्त अधिवक्ता पैरवी करेगा। इसके लिए पीड़ित महिला को कोई भुगतान नहीं करना होगा।

शासन दिलाएगी न्याय

शासन द्वारा नियुक्त समिति प्रताड़ित महिला के आवेदन पर छानबीन कर प्रकरण से संबंधित तथ्य एकत्रित करने के उपरांत न्यायालय में प्रकरण दर्ज कराएगी। इसके साथ पीड़िता की ओर से न्यायालय में जिरह भी करेगी व तथ्यों के आधार पर महिला को न्याय दिलाया जाएगा।

परियोजना में हो सकता है डीआईआर

महिला बाल विकास विभाग के जिला कार्यालय सहित ब्लॉक की किसी भी नजदीक परियोजना में घरेलू हिंसा की शिकार महिला डीआईआर दर्ज करा सकती है। जिसमें बरमकेला, लेन्घ्रा, सारंगढ़, कोसीर, रायगढ़ शहरी कार्यालय, रायगढ़ ग्रामीण कार्यालय, तमनार, मुकडेगा, घरघोड़ा, धरमजयगढ़, लैलूंगा, खरसिया, कापू, पुसौर आदि प्रमुख है।

घरेलू हिंसा की शिकार महिलाओं के लिए शासन की ओर से समिति बनाई है। कानूनी सहायता के लिए महिला अधिवक्ता का चयन हो गया है। घरेलू हिंसा की शिकार महिला नजदीक की किसी भी परियोजना कार्यालय में शिकायत करा सकती हैं, इसके बाद का काम नियुक्त समिति करेगी।

अजय शर्मा

कार्यक्रम अधिकारी

महिला एवं बाल विकास

Posted By:

fantasy cricket
fantasy cricket