रायपुर, (नईदुनिया प्रतिनिधि)। Jungle Sarari Raipur: एशिया की सबसे बड़ी मानव निर्मित जंगल सफारी में आने वाले पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए अलग-अलग प्रकार के वन्यजीवों को लाकर रखा जा रहा है। 10 नए बाड़े बनकर तैयार हो गए हैं। बाड़े का उद्घाटन वन मंत्री मो. अकबर के हाथों किया जाना है। एक नवंबर को बाड़े का उद्घाटन होने की उम्मीद लगाई जा रही है। उद्घाटन के बाद इन बाड़ों में पैंगोलिन, चिंकारा, जंगली कुत्ता, ब्ल्यू बुल और गौर आदि वन्य जीव को रखा जाना है।

जंगली कुत्ता और चिंकारा को मैसूर से लाया जाएगा। जंगल सफारी प्रबंधन बाड़े के उद्घाटन की तैयारी शुरु कर दी है। वन विभाग के अधिकारी का कहना है कि वन मंत्री से समय मांगा गया है, मिलते ही उद्घाटन करा दिया जाएगा। ज्ञात हो कि जंगल सफारी में 125 एकड़ में 37 बाड़े का निर्माण कार्य करने की स्वीकृति मिली है।

वर्तमान में 31 बाड़ों का निर्माण कार्य पूरा हो चुका है। शेष बचे हुए छह बाड़ों का निर्माण कार्य के लिए शासन से अनुमति मांगी गई है। वर्तमान में प्रबंधन ने बाड़ों में टाइगर, लायन, वाइट टाइगर, तेंदुआ और कछुआ, मानिटल लिबर्ट (गोह) कछुआ, हिप्पोपोटामस, घड़ियाल समेत हिमालयन भालू आदि को शिफ्ट कर दिया है।

सफारी प्रबंधन द्वारा जल्द ही चिंकारा और जंगली कुत्ते को मैसूर से लाने की तैयारी कर रहा है। बाकि के बचे हुए बाड़े का निर्माण कार्य भी प्रबंधन द्वारा शासन से स्वीकृति के लिए भेजा है, स्वीकृति मिलते ही बचे हुए बाड़े का निर्माण कार्य शुरु किया जाएगा।

मैसूर से आएग जंगली कुत्ता

जंगल सफारी प्रबंधन ने बताया कि जंगल सफारी में जंगली कुत्ता और चिंकारा लाने की योजना बनायी जा रही है। जंगली कुत्ते को लाने के लिए तेलंगाना, मध्य प्रदेश, कर्नाटक राजस्थान के अलग-अलग जू अथॉरिटी से संपर्क किया गया। ज्यादातर जू अथॉरिटी जंगली कुत्ते के बदले जोड़े में टाइगर या लायन देने की मांग कर रहे हैं। काफी प्रयास के बाद मैसूर जू अथॉरिटी ने जंगल सफारी को एक जोड़ा जंगली कुत्ता देने की सहमति प्रदान की है। बदले में मैसूर जू को जंगल सफारी प्रबंधन एक मादा लायन देने पर सहमति बनी है।

फैक्ट फाइल

37 बाड़ों का होना है निर्माण

21 बाड़े अब तक बनकर तैयार

06- बाड़े बनना शेष

50 हेक्टेयर में हो रहा जू का काम

Posted By: Shashank.bajpai

NaiDunia Local
NaiDunia Local