रायपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। शहर के 20 सार्वजनिक स्थानों पर आठ करोड़ रुपये की लागत से लगे 20 वाटर एटीएम बंद हैं। इनकी हालत जर्जर हो गई है। इसे स्मार्ट सिटी लिमिटेड ने आठ करोड़ रुपये की लागत से लगाए गए थे, ताकि एक लाख राहगीरों को पानी मिले सके। बता दें कि गार्डन, सरकारी कार्यालयों और प्रमुख थानों के पास लगे वाटर एटीएम अब जर्जर हो गए हैं, जबकि इनकी देखभाल की जिम्मेदारी नगर निगम की है। नईदुनिया की पड़ताल में पता चला कि नगर निगम इसकीमरम्मत और देखभाल के नाम पर करीब छह लाख से अधिक धनराशि भी खर्च कर चुका है। आज कहीं भी वाटर एटीएम चालू नहीं है।

स्पॉट नंबर-एक-फोटो--मोतीबाग छह से बंद, जबकि यहां आते हैं रोज 200 लोग

मोतीबाग गार्डन के मुख्य द्वार पर वाटर एटीएम बंद है। कुछ महीने पहले इसके चालू रहने पर काफी लोगों की भीड़ रहती थी। स्थानीय निवासी देवेंद्र साहू ने बताया कि देखरेख के अभाव में ऐसी स्थिति हुई है।

--स्पॉट नंबर दो- अनुपम गार्डन में भी बेकार पड़ा वाटर एटीएम

अनुपम गार्डन में वाटर एटीएम लगा था। पिछले एक माह से बंद है। इसकी मरम्मत की गई थी, एक रुपये के सिक्के एटीएम में डालने पर एक लीटर पानी मिलता था। ये राजधानी का सबसे बड़ा गार्डन है। यहां हर रोज 500 अधिक लोग आते हैं।

--स्पॉट नंबर तीन-आजाद चौक थाना में शोपीस

आजाद चौक थाने के परिसर में वाटर एटीएम लगा है, जो अब खराब होने से शोपीस बना है। कभी यहां आने वालों के अलावा आसपास के लोग शुद्घ पानी पीने के लिए रुकते थे। पुलिस कर्मी बताते हैं, इसके रहने से पीने के पानी की सुविधा थी।

--स्पॉट नंबर चार-इनडोर स्टेडियम में तो जर्जर हालत

स्मार्ट सिटी लिमिटेड ऑफिस के बगल इंडोर स्टेडियम में वॉटर एटीएम जर्जर स्थिति में है। कुछ दिन चलने के बाद वह बंद पड़ा है। जबकि यहां खिलाड़ी प्रैक्टिस करने के लिए भी आते हैं। ऐसे में उन्हें इधर, उधर भटकना पड़ता है।

वर्जन

इसकी जांच कराएंगे। अगर किसी आवंछनीय तत्व द्वारा नुकसान पहुंचाया गया होगा तो उसके खिलाफ कार्रवाई कराऊंगा।

- सौरभ कुमार, एमडी, स्मार्ट सिटी लिमिटेड, रायपुर

Posted By: Nai Dunia News Network