रायपुर। नईदुनिया, राज्य ब्यूरो। छत्तीसगढ़ में नवंबर- दिसंबर 2018 में हुए विधानसभा के चुनाव में 1258 प्रत्याशी मैदान में थे। इनमें से 146 ने अपने चुनावी शपथपत्र में उनके खिलाफ आपराधिक मुदकदमा दर्ज होने की जानकारी दी थी। इनमें दोनों प्रमुख राष्ट्रीय दलों के साथ ही क्षेत्रीय व अन्य पार्टियां भी शामिल हैं। सबसे ज्यादा कांग्रेस ने ऐसे 25 लोगों को टिकट दिया था। भाजपा व बसपा ने छह-छह तो पहली बार विधानसभा चुनाव लड़ी पूर्व सीएम अजीत जोगी की पार्टी जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़(जकांछ) ने 18 ऐसे लोगों को मैदान में उतारा था। हालांकि इनमें से अधिकांश पर राजनीति आंदोलनों की वजह से मुकदमे दर्ज हुए हैं।

देश की सर्वोच्च अदालत ने राजनीति में दागी यानी आपराधिक पृष्ठभूमि वालों को रोकने के लिए राजनीतिक दलों के लिए एक अहम दिशा- निर्देश जारी किया है। इसके अनुसार दलों को दागियों को टिकट देने की वजह बतानी होगी। इसके बाद फिर यह मामला चर्चा में है।

कैबिनेट में सीएम समेत तीन

राज्य कैबिनेट में शामिल तीन नेता भी मुकदमों का सामना कर रहे हैं। इनमें मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के अलावा मंत्री जय सिंह अग्रवाल और अमरजीत भगत शामिल हैं। बघेल पर दो, अग्रवाल पर 12 और भगत पर एक केस है।

जय सिंह व विकास पर सबसे ज्यादा 12-12 केस

राजस्व मंत्री जय सिंह अग्रवाल और रायपुर पश्चिम से विधायक विकास उपाध्याय पर सबसे ज्यादा 12-12 केस दर्ज हैं। कांग्रेस के ही बेमेतरा विधायक आशीष छाबड़ा पर 10, भिलाई विधायक देवेंद्र यादव के खिलाफ नौ केस हैं। डोंगरगढ़ से जकांछ विधायक देवव्रत पर चार एफआईआर है।

आठ के खिलाफ दो-दो मुकदमे

कांग्रेस की महिला विधायक छन्नी साहू, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, ब्रहस्पति सिंह, रेखचंद जैन, संतराम नेताम, सत्यनारायण शर्मा, शैलेष पाण्डेय और विनोद चंद्राकर पर दो-दो केस दर्ज हैं।

दो पूर्व मंत्रियों के खिलाफ भी प्रकरण

पूर्ववर्ती भाजपा सरकार में मंत्री रहे ननकीराम कंवर और बृजमोहन अग्रवाल के खिलाफ भी केस चल रहा है। कंवर के खिलाफ 2013 और अग्रवाल के खिलाफ 2018 में एफआईआर हुआ है। भाजपा के तीसरे नेता भाटापारा विायक शिवरतन शर्मा पर 2010 से मुकदमा चल रहा है।

इनका कहना है

राजनीति में सक्रिय लोगों पर तमाम मुकदमे प्रतिद्वंद्विता की वजह से दर्ज होते हैं। कुछ मामले जन आंदोलनों की वजह से भी दर्ज होते हैं। मेरी राय में राजनीतिक शुचिता के लिए राजनीतिक दलों को दागियों को टिकट देना ही नहीं चाहिए। इससे लोगों का विश्वास बढ़ेगा।

- मोहन मरकाम, अध्यक्ष प्रदेश कांग्रेस

Posted By: Hemant Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

Independence Day
Independence Day