रायपुर। छत्तीसगढ़ में स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूल राज्य की कांग्रेस सरकार की बड़ी उपलब्धि हैं। आने वाले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस इसे भुनाने में भी कोई कसर नहीं छोड़ेगी। इसके जवाब में अब केंद्र सरकार की पीएमश्री (प्रधानमंत्री स्कूल फार राइजिंग इंडिया) योजना आ गई है। राज्य में अगले शिक्षा सत्र में 146 स्कूलों का पीएमश्री स्कूलों के रूप में उन्नयन किया जाएगा। इन स्कूलों में बेहतर शिक्षकों और अधोसंरचना का लाभ छात्रों को मिलेगा। प्रदेश में दो वर्ष में 300 पीएमश्री स्कूल खोले जाएंगे।

केंद्रीय विद्यालय व नवोदय विद्यालयों के बाद पीएमश्री स्कूल राज्य की पहचान बनेंगे। शिक्षा अगले वर्ष बड़ा चुनावी मुद्दा बनेगा। समग्र शिक्षा के प्रबंध संचालक नरेंद्र कुमार दुग्गा ने बताया कि राज्य और केंद्र सरकार के बीच पीएमश्री योजना के लिए अनुबंध हो चुका है। इस योजना के तहत मौजूदा स्कूलों को ही नए सिरे से विकसित किया जाएगा। शुरुआती चरण में यह स्कूल प्रदेश के पिछड़े इलाकों और जिलों में खोलने की प्राथमिकता है। इन स्कूलों में राष्ट्रीय शिक्षा नीति की सभी सिफारिशों को लागू किया जाएगा। विद्यार्थियों में पठन-पाठन की स्किल विकसित करने, आधुनिक अटल टिंकरिंग लैब, डिजिटल लाइब्रेरी की सुविधा देने, स्थानीय भाषा में विद्यार्थियों के लिए अध्ययन-अध्यापन के लिए व्यवस्था करने, स्थानीय बोली-भाषा में पढ़ाने के लिए स्थानीय शिक्षकों को नियुक्त करने की योजना है। इससे स्थानीय पढ़े लिखे युवाओं के लिए रोजगार का रास्ता खुलेगा। पीएमश्री स्कूलों के रूप में एक फ्यूचरिस्टिक बेंचमार्क माडल विकसित किया जाएगा। जनवरी तक स्कूलों को चयन हो जाएगा और इसके बाद यहां के शिक्षकों को तीन महीने तक प्रशिक्षित किया जाएगा।

पीएमश्री में शामिल होने के लिए स्कूल करेंगे आवेदन

पीएमश्री स्कूल किसे बनाया जाए, इसके लिए प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। इसके लिए विकासखंडों से स्कूल प्रबंधकों को स्वयं आनलाइन पीएमश्री स्कूल के लिए आवेदन करना होगा। एक विकासखंड से एक प्राइमरी और एक हायर सेकेंडरी स्कूल का चयन पहले चरण में होगा। स्कूल का अपना अच्छी हालत में पक्का भवन होना चाहिए। सुरक्षा के गाइडलाइन के अनुसार बाधा-रहित वातावरण होना चाहिए।

राज्य में चल रहे स्वामी आत्मानंद स्कूल

प्रदेश में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की महत्वाकांक्षी स्वामी आत्मानंद योजना के तहत खोले गए स्कूलों को अभिभावक हाथोंहाथ ले रहे हैं। इन स्कूलों के लिए वर्ष 2022-23 में दो लाख 76 हजार से अधिक आवेदन मिले हैं। परिस्थितियों को देखते हुए स्कूलों की संख्या भी बढ़ाई जा रही है। इस समय प्रदेश में 279 स्कूल संचालित हैं, जिसमें अंग्रेजी माध्यम के 247 और हिंदी माध्यम के 32 स्कूल हैं। आने वाले शैक्षणिक सत्र में 400 हिंदी माध्यम के भी स्वामी आत्मानंद स्कूल खोलने की योजना है।

बेहतर करने की होड़ में विद्यार्थियों को फायदा

शिक्षाविद डा. जवाहर सूरसेट्टी की मानेंं तो प्रदेश में पहले से ही स्वामी आत्मानंद स्कूल चल रहे हैं। अब पीएमश्री स्कूलों खुलना राजनीति से प्रेरित भी लगता है। मगर इस होड़ से विद्यार्थियों और अभिभावकों को फायदा है। हालांकि इसमें गुणवत्ता का ध्यान रखना होगा। केंद्र सरकार की ओर केंद्रीय विद्यालय संगठन के जरिए केंद्रीय विद्यालय भी संचालित किए जा रहे हैं। जवाहर नवोदय विद्यालय भी चल रहे हैं।

वहीं स्कूल शिक्षा प्रमुख सचिव डा. आलोक शुक्ला ने बताया कि पीएमश्री योजना के तहत स्कूलों का चयन केंद्रीय टीम ही कर रही है। इसके तहत स्कूलों को विकसित किया जाएगा। प्रदेश में स्वामी आत्मानंद स्कूल के रूप में माडल स्कूल भी विकसित हो रहे हैं।

Posted By: Abhishek Rai

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close