रायपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

राजधानी से लगे कल-कारखानों में बाल श्रमिकों से मजदूरी कराई जा रही है। इसका खुलासा शुक्रवार को जिला बाल संरक्षण अधिकारी की ओर से की गई कार्रवाई में हुआ। कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी डॉ. एस. भारतीदासन के निर्देशन में जिला बाल संरक्षण अधिकारी की टीम ने बालश्रम निषेध सप्ताहके अंतर्गत विभिन्न फैक्टरियों और उद्योगों में दबिश देकर 51 बाल श्रमिकों को छुड़ाया है। महिला एवं बाल विकास विभाग अशोक पांडेय ने बताया कि महिला बाल विकास विभाग की बाल संरक्षण इकाई, श्रम विभाग, चाइल्ड लाइन, बचपन बचाओ की टीम की ओर से बाल श्रम निषेध सप्ताह के दौरान सघन निरीक्षण किया गया।

इन इलाकों से बच्चों को छुड़ाया

जिले के उरला, सिलतरा, आरंग, मंदिर हसौद, भनपुरी, टाटीबंध, हीरापुर और संतोषी नगर इलाके से 18 वर्ष से कम उम्र के 24 बालक तथा आज आमासिवनी के सड्डू इलाके में बिस्कुट फैक्टरी से 27 बालकों को वहां से छुड़ाते हुए सीडब्ल्यूसी के समक्ष भेजा गया है, जहां से बालकों को बालगृह काउंसिलिंग के लिए भेजा जाएगा।