रायपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

प्याज की आसमान छूती कीमत से लोग परेशान हैं। अप्रैल में प्याज 12 रुपये किलो बिक रहा था, जो दिसंबर में 120 रुपये किलो तक पहुंच गया। आठ महीने में राजधानी में प्याज 700 फीसद महंगा हो गया। इस बीच आलू की कीमत में 30 फीसद ही तेजी आई। अप्रैल में आलू 10 से 12 रुपये किलो में बिक रहा था, अभी 20 रुपये किलो बिक रहा है। कारोबारियों का कहना है कि जैसे-जैसे आयातित प्याज की आवक बढ़ेगी, दाम में सुधार होने लगेगा।

बाजार विशेषज्ञों का कहना है कि बारिश से प्याज की फसल खराब होने के बात काफी पहले से की जा रही थी, लेकिन सरकार ने इस पर ध्यान न देते हुए निर्यात नहीं रोका। इसी का खामियाजा अभी भुगतना पड़ रहा है। थोक आलू-प्याज व्यापारी संघ के अध्यक्ष अजय अग्रवाल का कहना है कि आयातित प्याज बाजार में आना शुरू हो गया है। आने वाले दिनों में जैसे ही प्याज की आवक सुधरेगी, कीमत भी सुधर जाएगी।

लहसून भी कम नहीं-

लहसुन की कीमत में बीते तीन महीने में बेतहाशा वृद्धि हुई है। चिल्हर में लहसुन 200 रुपये किलो से पार बिक रहा है। कारोबारियों का कहना है कि आवक काफी कम है, इसलिए लहसुन की कीमत में तेजी आ गई है।

छह स्थानों में प्याज की कीमत-

स्थान कीमत (दिसंबर में रुपये प्रति किलो) कीमत (अप्रैल में रुपये प्रति किलो)

रायपुर 80-100 11-14

भोपाल 70 10-12

जयपुर 90 20

पटना 110 25

रांची 120 30

चंडीगढ़ 120 20

( कीमत चिल्हर में, व्यापारियों से मिली जानकारी के अनुसार।)

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket