रायपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। स्वतंत्रता की 75 वीं वर्षगांठ यानी अमृत महोत्सव के तहत देश के साथ छत्‍तीसगढ़ में 75 करोड़ सूर्य नमस्कार का शुभारंभ मकर संक्राति पर किया गया। कोरोना महामारी के चलते सार्वजनिक आयोजन न करते हुए कार्यकर्ताओं ने अपने निवास, कार्यालय में किया। यह अभियान लगभग एक माह तक चलेगा। योगासन करने वाले प्रत्येक सदस्य एक दिन में कम से कम 21 सूर्य नमस्कार करेंगे।

विश्व हिंदू परिषद के धवल शाह ने बताया कि शुक्रवार को छत्‍तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के पंडरी स्थित कार्यालय में योग नमस्कार का शुभारंभ हुआ। छात्रावास के विद्यार्थियों ने सूर्य नमस्कार के विविध आसन किए। यह सिलसिला लगातार चलेगा। साथ ही अन्य शहरों में भी जिला इकाइयों के नेतृत्व में कार्यकर्ता सूर्य नमस्कार कर रहे हैं। छत्तीसगढ़ में पांच करोड़ सूर्य नमस्कार का लक्ष्य रखा गया है।

सूर्य के विविध नाम का उच्चारण

छात्रावास के विद्यार्थियों ने सूर्य नमस्कार की 10 यौगिक क्रियाओं को करने के साथ ही सूर्यदेव के विविध नामों का उच्चारण किया। सूर्यदेव से शरीर को स्वस्थ रखने की प्रार्थना की।

सूर्यदेव के विविध नाम- ऊं मित्राय नम:, ऊं रवये नम: ऊं सूर्याय नम: ऊं भानवे नम: ऊं खगाय नम: ऊं पुष्णे नम:, ऊं हिरण्यगर्भाय नम:, ऊं मरीचये नम:, ऊं आदित्याय नम:, ऊं सवित्रे नम:, ऊं अर्काय नम:, ऊं भास्कराय नम:, ऊं श्रीसवितृसूर्यनारायण नम: का जाप किया।

भारत स्वाभिमान न्यास

भारत स्वाभिमान न्यास के अध्यक्ष संजय अग्रवाल ने बताया कि सूर्य नमस्कार अभियान के तहत पतंजलि योगपीठ, क्रीड़ा भारती, गीता भारती, हार्टफुलनेस, फिट इंडिया के सदस्यों ने सूर्य नमस्कार किया। प्रत्येक सदस्य कम से कम 13 सूर्य नमस्कार करेंगे। मकर संक्राति से शुरू हुआ अभियान 20 फरवरी तक होगा। इस दौरान कम से कम 21 दिन तक एक सदस्य 13 बार योग क्रिया संपन्न करेगा। सबसे आंकड़ा एकत्रित करके आखिरी दिन कुल संख्या की घोषणा की जाएगी।

Posted By: Kadir Khan

NaiDunia Local
NaiDunia Local