रायपुर। Axis Bank scam: एक्सिस बैंक घोटाले में शामिल फरार महिला एनजीओ संचालिका दीपा वर्मा को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। एनजीओ संचालिका के खाते में घोटाले के ढाई करोड़ रुपये जमा हुए थे। पुलिस ने जांच के दौरान इसके खाते से केवल तीन लाख 95 हजार रुपये जब्त किया है। शेष पैसों के संबंध में उससे पूछताछ की गई पर कोई ठोस जानकारी नहीं मिल पाई।

फरार चल रही इस महिला और एक्सिस बैंक के मैनेजर के साथ इस प्रकरण में कुल नौ लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है। हालांकि मास्टर माइंड अब भी फरार है। उसे ढूंढने के लिए पुलिस गुजरात, महाराष्ट्र में छापामारी भी कर चुकी है पर वो नहीं मिला। कुल 16 करोड़ 40 लाख रुपये के इस फर्जीवाड़े में पुलिस को केवल दो करोड़ 34 लाख रुपये ही नकदी मिला है। इसके साथ एक करोड़ 18 लाख रुपये राज्य के अलग-अलग बैंकों में फ्रीज कराए गए हैं। इस तरह लगभग तीन करोड़ रुपये पुलिस के हाथ लगे हैं। पुलिस के हाथ अब तक सौरभ मिश्रा, आबिद खान, संदीप रंजन दास, समीर कुमार जांगड़े, गुलाम मुस्तफा, सत्यनारायण वर्मा उर्फ सतीश वर्मा, सांई प्रवीण रेड्डी और के. श्रीनिवास और दीपा वर्मा शामिल हैं।

यह भी पढ़ें : सेवानिवृत अधिकारी को ठगने वाले ने प्रोफेसर से भी ठगे 53 लाख, ठगी के प्रकरण में पहले से ही जेल में है आरोपित

सौरभ ने डलवाए थे पैसे

एनजीओ संचालिका दीपा वर्मा के खाते में सौरभ मिश्रा ने पैसे डलवाए थे। सौरभ और दीपा पूर्व परिचित थे। फर्जीवाड़ा के पैसे एनजीओ के खाते में आने के बाद दीपा ने अपने व्यक्तिगत खाते में भी ट्रांसफर कर लिया था।

इनके जवाब खोज रही पुलिस

फर्जीवाड़े का राजफाश मंडी बोर्ड को भेजे गए ई-मेल से हुआ था। डान नाम के किसी व्यक्ति ने ई-मेल किया था। उसका सोशल लिंक भी खंगाला गया, लेकिन अब तक उसका पता नहीं चला है। वहीं, मंडी बोर्ड के 60 करोड़ रुपये की एफडी किसी पहचान वाले के माध्यम से कराए जाने की बात सामने आई थी। आखिर फर्जीवाड़े के मास्टरमाइंड का करीबी मंडी बोर्ड में कौन है, पुलिस अब तक ये भी पता नहीं लगा पाई है।

Posted By: Ashish Kumar Gupta

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close