रायपुर।नईदुनिया प्रतिनिधि

राजधानी रायपुर का एयरपोर्ट मार्ग घुमावदार होने से सड़क हादसे लगातार हो रहे हैं। इस मार्ग पर ट्रैफिक अमला उस वक्त तक ही नजर आता है जब कोई वीआइपी मूवमेंट होता। पीटीएस चौक पर ट्रैफिक सिग्नल नहीं होने का खामियाजा आम नागरिकों को भोगना पड़ रहा है। यहां से गुजरने वाले वाहन चालकों और राहगीरों को बार-बार सिर घुमाकर इधर-उधर देखना पड़ता है।

दरअसल पीटीएस चौक पर मुख्य सड़क दो सर्विस रोड को एक साथ जोड़ती है। घुमावदार मार्ग होने की वजह से वाहन चालकों को विपरीत दिशा से आ रहीं गाड़ियां नजर नहीं आतीं। यहीं नहीं एयरपोर्ट का मुख्य मार्ग एकांगी होने के बावजूद उस पर दोनों ओर से तेज रफ्तार वाहनों की आवाजाही दिन-रात होती है। यही दुर्घटना का मुख्य कारण साबित हो रहा है। सर्विस रोड होने के बावजूद एयरपोर्ट एक्सप्रेस वे को अब तक एकांगी नहीं किया जा सका है।

शनिवार आधी रात एयरपोर्ट रोड पर दो कारों के बीच हुई जबरदस्त भिंडंत में एक युवती समेत पांच लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। सभी घायलों को निजी अस्पताल में इलाज चल रहा है। यह हादसा दोनों कारो के तेज रफ्तार होने की वजह से हुआ है। माना कैंप पुलिस के मुताबिक हादसा करीब एक बजे की है। रायपुर से एयरपोर्ट की तरफ जा रही टिगोर कार क्रमांक सीजी 06 जीआर 1875 में चार लोग सवार थे और एयरपोर्ट से रायपुर की ओर जा रही सियाज डेल्टा कार क्रमांक सीजी 04 एमबी 5665 में दो युवक सवार थे। तेज रफ्तार होने के कारण अनियंत्रित होकर दोनों कार की आपस में टक्कर हो गईं। टक्कर इतनी जबरदस्त थी कि कार के सामने के हिस्से के परखचे उड़ गए। इनमे से एक कार एयरपोर्ट की ओर जा रही थी जबकि दूसरी कार एयरपोर्ट से रायपुर शहर की ओर आ रही थी। दोनों कार के आपस में टकराने से घटना स्थल पीटीएस चौक पर कोहराम मच गया। राहगीरों की मदद से दुर्घटनाग्रस्त कार से घायलों को बाहर निकालकर एंबुलेंस से अस्पताल ले जाकर भर्ती कराया गया, जहां इलाज जारी है। टिआगो कार में सरायपाली निवासी दीपक अग्रवाल, अंकुर, ज्योति और एंजल वर्मा सवार थे, जबकि दूसरी कार में प्रवीण भोई समेत अन्य सवार थे। लोटम अपार्टमेंट कुलदीप भोई की शिकायत पर माना पुलिस ने अपराध कायम किया है। हादसे में उनका भाई प्रवीण भोई के सिर एंव दाहिने पैर में चोट आई।

एक साल में 19 हादसे, 11 की मौत

एयरपोर्ट मार्ग पर पिछले साल के भीतर 19 बड़े हादसे दर्ज किये गए थे। इन हादसों में इसमें 11 लोगों की मौत और 42 बुरी तरह से घायल हुए थे। इस वर्ष 2020 में मात्र डेढ़ महीने में पीटीएस चौक पर यह चौथी बड़ी दुर्घटना है। पिछली तीन दुर्घटनाओं में चार नागरिकों की मौत हो चुकी है जबकि नौ बुरी तरह से घायल हुए हैं। चौंकाने वाली बात यह है कि एयरपोर्ट मार्ग पर सर्वाधिक हादसे केवल पीटीएस चौक पर ही हो रहे हैं। डेंजर जोन बन रहे पीटीएस चौक की जिला व पुलिस प्रशासन को सुध लेनी चाहिए अन्यथा हादसों का सिलसिला जारी रहेगा।

Posted By: Nai Dunia News Network