रायपुर। Action on Single Use Plastic: सिंगल यूज प्लास्टिक (एसयूपी) पर निगम ने कार्रवाई तेज कर दी है। बीते दिन गुढ़ियारी में तीन दुकानों की जांच की गई तो दो दुकानों में भारी मात्रा में प्रतिबंधित एसयूपी मिली। इस पर दोनों दुकानों को सील कर दिया गया। वहीं एक दुकान संचालक से पांच हजार रुपये जुर्माना वसूला गया।

निगम आयुक्त मयंक चतुर्वेदी के निर्देश पर सहायक स्वास्थ्य अधिकारी डा. तृप्ति पाणिग्रही के नेतृत्व में जोन दो के जोन स्वास्थ्य अधिकारी रवि लावनिया, स्वच्छता निरीक्षक चेतानंद एवं संबंधित जोन के कर्मचारी औचक निरीक्षण पर निकले। इस दौरान बालाजी पालीमर्स एवं सीता गृह उद्योग में बड़ी मात्रा में बड़ी मात्रा में प्रतिबंधित पालीथिन पाई गई। इस पर पंचनामा की कार्रवाई कर दोनों दुकानों को तत्काल सील कर दिया गया। इसके अलावा एकादश नामक दुकान में 50 किलो एसयूपी मिलने पर जब्ती के बाद संचालक से मौके पर ही पांच हजार रुपये जुर्माना वसूला गया।

अधिकारी पाणिग्रही ने बताया कि केंद्र सरकार के आदेशानुसार एवं छत्तीसगढ़ शासन, राज्य पर्यावरण संरक्षण मंडल, रायपुर जिला प्रशासन के निर्देशानुसार 1 जुलाई 2022 से समाज हित, पर्यावरण संरक्षण की दृष्टि से एसयूपी पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगाया गया है। इसके बावजूद दुकान संचालक अवैध रूप से बिक्री कर रहे हैं। ऐसे लोगों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। बता दें कि देशभर में सिंगल यूज प्लास्टिक के उपयोग पर प्रतिपबंध लगाया जा चुका है। वहीं कड़ाई से इसका पालन करने के निर्देश दिए गए हैं। इसके बावजूद कई जगहों पर प्लास्टिक का उपयोग किया जा रहा है।

प्लास्टिक पर प्रतिबंध इसलिए है जरूरी

प्लास्टिक को दुनिया में होने वाले प्रदूषण के लिए एक बड़ा कारक माना गया है। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक वित्त वर्ष 2018- 19 में पूरे देश में 30.59 लाख टन और वित्त वर्ष 2019-20 में 34 लाख टन से अधिक प्लास्टिक का कचरा निकला था। प्लास्टिक के कचरे की सबसे बड़ी समस्या यह है कि इसका निस्तारण करना बेहद मुश्किल होता है। कई शोधों से पता चला है कि सिंगल यूज प्लास्टिक के के कारण निकलने वाले कचरे के एक बड़े हिस्से का निस्तारण नहीं हो पाता है, जिसके कारण ये देश के विभिन्ना हिस्सों के कूड़ा घरों में एकत्रित होकर हवा, पानी और जमीन तीनों को दूषित करता है।

Posted By: Abhishek Rai

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close