रायपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

राष्ट्रीय तंबाकू नियंत्रण कार्यक्रम अंतर्गत रायपुर के बार एवं रेस्टोरेंट में धारा 4 व 5 के तहत चालानी कार्रवाई की गई । 26 चालानी कार्यवाई में 5200 रुपये वसूले गए। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, जिला नोडल अधिकारी के मार्गदर्शन में एनटीसीपी कंसल्टेंट के नेतृत्व में जोन क्रमांक 08 में रेस्टोंरेंट एवं बार में चालानी कार्रवाई हुई। इसमें ड्रग इंस्पेक्टर सुरेश साहू, डॉ टेकचंद, पुलिस विभाग से नेताम, स्वास्थ्य विभाग से जिला कार्यक्रम प्रबंधक रंजना पैकरा, डॉ. सृष्टि यदु, जिला सलाहकार एवं नेहा सोनी सोशल वर्कर आदि मौजूद रहे।

जिला सलाहकार राष्ट्रीय तंबाकू नियंत्रण कार्यक्रम डॉ. सृष्टि यदु ने बताया चालानी कार्यवाई के दौरान डॉल्फिन रेस्टोरेंट महाराजा पान पैलेस, बंजारन बार एवं रेस्टोरेंट में एस ट्रे प्रत्येक टेबल में और सिगरेट मिली। किसी भी बार में स्मोकिंग जोन नहीं पाया गया। साथ ही कहीं पर 18 साल से कम उम्र वालों द्वारा खरीदी-बिक्री पर प्रतिबंध का बोर्ड नहीं पाया गया।

डॉ. यदु ने कहा कि चालानी कार्यवाही में बार, रेस्टोरेंट में पाया गया कि स्मोकिंग को बढ़ावा दिया जाता है। यहां पर सिगरेट बेची जाती है॥ होटलों में स्मोकिंग जोन नहीं है। नो स्मोकिंग और 18 वर्ष के कम के लोगों की खरीदी-बिक्री पर प्रतिबंध का स्टीकर नहीं पाया गया।

क्या कहती हैं धाराएं

धारा 4

-सार्वजनिक स्थानों पर धूम्रपान अपराध है।

-सार्वजनिक स्थानों के प्रभारी/मालिक हर प्रवेश द्वार एवं हर मंजिल से सुस्पष्ट स्थान पर एक काले धुएं के साथ सिगरेट अथवा बीड़ी के चित्र को काटती हुए प्रदर्शित होगी ।

-बोर्ड के नीचे प्रभारी/मालिक (जिसके पास उल्लंघन की शिकायत की जानी है) का नाम व फोन नंबर लिखा हो, यदि सार्वजनिक मालिक/प्रभारी उल्लंघन करने पर कार्रवाई नहीं करता है, तो उस पर व्यक्तिगत अपराधों की संख्या के समतुल्य जुर्माना लगाया जायेगा ।

-सार्वजनिक स्थानों पर (स्मोकिंग एड) सिगरेट, लाइटर एवं बीड़ी सिगरेट जलाने के लिए उपकरण (माचिस) उपलब्ध नहीं करवाये जायेंगे।

धारा 5 क्या है

-तंबाकू पदार्थों के प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष विज्ञापन पर पूर्ण प्रतिबंध है।

-तंबाकू पदार्थों को बेचने वाली दुकान पर काले अक्षरों में सफेद पृष्ठभूमि का बोर्ड लगा सकते हैं, जिस पर 'तंबाकू से कैंसर होता है' लिखा होना चाहिए।

-तंबाकू पदार्थों को बेचने वाली दुकान पर लगे बोर्ड चमकदार (बिजली युक्त) नहीं होना चाहिए।

-टेलीविजन व फिल्मों में तंबाकू के दृश्यों को दिखाना अपराध है।

उक्त नियमों के उल्लंघन पर 1 से 5 वर्ष की कैद और 1000 से 5000 का जुर्माना लगाया जा सकता है