रायपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

नगरीय निकाय चुनाव की सरगर्मी धीरे-धीरे तेज हो रही है। नगरीय निकाय चुनाव से पहले राज्य सरकार ने वार्डों के परिसीमन का काम पूरा कर लिया है। परिसीमन के बाद बड़े वार्डों को काटकर छोटा कर दिया गया है। इस बार का परिसीमन जनसंख्या और आबादी दोनों के लिहाज से किया गया है। रामकृष्ण परमहंस वार्ड परिसीमन के पहले रायपुर के बड़े वार्डों में शामिल था, लेकिन परिसीमन के बाद इसे तीन भागों में विभाजित कर दिया गया है।

विभाजन के बाद रामकृष्ण परमहंस वार्ड जवाहरलाल नेहरू वार्ड और डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम को इस परिसीमन में नया वार्ड बनाया गया है। परिसीमन के पहले रामकृष्ण परमहंस वार्ड क्रमांक दो था लेकिन अब वार्ड क्रमांक 20 हो गया है। रामकृष्ण परमहंस वार्ड की जनसंख्या जहां 37 हजार थी वहीं विभाजित होने के बाद इसकी जनसंख्या 15 हजार हो गई है।

जिसमें वोटरों की संख्या कुल 13 हजार है। ज्ञात हो कि रामकृष्ण परमहंस वार्ड को वर्ष 2004 के परिसीमन में बनाया था। वर्ष 2004 में हुए नगर निगम के चुनाव में कांग्रेस के श्रीकुमार मेनन. वर्ष 2009 के चुनाव में यह वार्ड ओबीसी हो गया उसके बाद भाजपा के बजरंगी निषाद, वर्ष 2014 में महिला सामान्य हो गया था। भाजपा की राधा ठाकुर ने जीत दर्ज किया था। वर्ष 2009 से अब तक इस वार्ड में भाजपा का कब्जा है।

वार्ड के प्रमुख हिस्से

इस वार्ड में कोटा हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी, मोवा बाजार, एसबीआइ कॉलोनी, मोवा बाजार, सिंगापुर सिटी, मारुति लाइफ स्टाइल, ठाकुरपारा, सतनामीपारा, भवानी नगर का एरिया को शामिल किया गया है।

परिसीमन के बाद वार्ड की स्थित

उत्तर- परमानंद नगर के पास नहर रोड बाय पास रेलवे लाइन के मिलन बिंदु से बायपास रेलवे लाइन से होकर सीता नगर के पास नाला पुलिया तक।

पूर्व- बायपास रेलवे लाईन सीतापुर नाला पुलिया से प्रीतम नगर,विकास नगर नाला होते हुए विद्यापीठ सेंट्रल बैंक के पास नाला पुलिया तक।

दक्षिण- विद्यापीठ सेंट्रल बैंक के पास नाला पुलिया से जगन्नााथ चौके होते हुए मुख्य मार्ग से परमानंद नगर तक।

पश्चिम- उक्त बिंदु से नहर मार्ग होकर वायपास रेलवे लाइन तक।