रायपुर। इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय रायपुर के दीक्षांत समारोह में कुल मेडल की संख्या सात से बढ़कर आठ हो गई है यानी कृषि सूक्ष्म जीव विज्ञान विभाग के स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम (एमएससी एग्री माइक्रो बायोलॉजी) में प्रावीण्य सूची में प्रथम स्थान पाने वाले विद्यार्थी को गोल्ड मेडल की सूची में पहली बार शामिल किया गया है, जो कि विख्यात सूक्ष्म जीव वैज्ञानिक डॉ. जेएन दुबे स्मृति गोल्ड मेडल से सम्मानित किया जाएगा।

ज्ञात हो कि कृषि सूक्ष्म जीव वैज्ञानिकों की एक समिति ने डॉ. जेएन दुबे की स्मृति में गोल्ड मेडल की स्थापना का अनुरोध करते हुए विवि के कुलपति डॉ. एसके पाटील को 1.50 लाख रुपये की सहयोग राशि का चेक सौंपा। ज्ञात हो कि विवि का नौ वां दीक्षांत समारोह नवंबर में आयोजित होगा। इसके लिए विवि तैयारी में जुट गया है।

पाठ्यक्रम के छात्रों में दिखी खुशी

इंदिरा गांधी कृषि विवि के दीक्षांत में पहली बार (एमएससी एग्री माइक्रो बायोलॉजी) में गोल्ड मेडल शुरू होने से एक तरफ जहां विवि में मेडल की संख्या बढ़ी है, वहीं संबंधित विषय में एमएसी कर रहे छात्रों में बड़ी खुशी है। इससे फाइनल वर्ष की पढ़ाई कर रहे छात्रों में गोल्ड मेडल लेने के लिए उत्सुकता बढ़ गई है। इसी तरह से अन्य पाठ्यक्रमों में मेडल शुरू हो। इसको लेकर मांग जरूर बढ़ गई है। विवि के कुलपति डॉ. पाटील की माने तो गोल्ड मेडल से विवि में पढ़ाई कर रहे छात्रों में जरूर निखार होगा।

मध्य भारत के प्रसिद्ध सूक्ष्म जीव वैज्ञानिक थे

उल्लेखनीय है कि डॉ. जेएन दुबे मध्य भारत के प्रसिद्ध सूक्ष्म जीव वैज्ञानिक थे। उन्होंने कृषि में सूक्ष्म जीवाणुओं के महत्व एवं उपयोगिता पर गहन अनुसंधान किया था। वे मध्य भारत में सोयाबीन की फसल में रायजोबियम जीवाणुओं की उपयोगिता प्रतिपादित करने वाले पहले वैज्ञानिक थे।

उन्होंने विभिन्ना फसलों में सूक्ष्म जीवों के उपयोग पर दीर्घ अनुसंधान किया। वहीं समिति के अध्यक्ष जवाहर लाल नेहरू कृषि विवि जबलपुर में मृदा सूक्ष्म जीव विज्ञान विभाग के सेवानिवृत प्राध्यापक एवं राष्ट्रीय जैव उर्वरक उत्पादन केंद्र गाजियाबाद के पूर्व निदेशक डॉ. एलएन वर्मा एवं कृषि महाविद्यालय जशपुर के अधिष्ठाता डॉ. एसबी गुप्ता ने डॉ. पाटील को चैक सौंपा।

Posted By: Nai Dunia News Network