रायपुर, नईदुनिया, राज्य ब्यूरो। मरवाही उपचुनाव को लेकर पूर्व विधायक अमित जोगी ने पहले मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के खिलाफ अमर्यादित टिप्पणी की, उसके बाद आज माफी मांगी है। अमित ने शनिवार को कहा था, कुछ कांग्रेसी ये सवाल करते हैं कि जब सरकार ने आपका और आपकी पत्नी ऋचा का नामांकन पत्र रद्द करवा दिया तो आपने बाकी कार्यकर्ताओं को मरवाही से उपचुनाव लड़ने का मौक़ा क्यों नहीं दिया? इसके दो जवाब हैं।

पहला, पार्टी के बी फॉर्म में केवल दो ही नाम- मुख्य और वैकल्पिक, दिए जा सकते हैं। दूसरा, इसके बावजूद मैंने तीसरे (पुष्पेश्वरी सिंह) और चौथे (मूलचंद कुसराम) का नामांकन जोगी कांग्रेस के भरवाया था, लेकिन भूपेश के डर से निर्वाचन अधिकारी ने सिरे से चारों नाम को रद कर दिए। इसके बाद उन्होंने सीएम को लेकर अर्मादित टिप्पणी करते हुए कहा था कि, भारत के चुनावी इतिहास में निर्वाचन अधिकारी की इस प्रकार की शर्मनाक स्वामी भक्ति और चाटुकारिता का प्रमाण पहले कभी नहीं मिलता है। ये भूपेश के डर और जोगी परिवार के प्रति विक्षिप्त मानसिकता को दर्शाता है कि वो जोगी से ज्यादा जोगी के नाम से डरता है। कोई माने या न माने, छत्तीसगढ़ में पाप का घड़ा भर चुका है और कांग्रेसियों की उल्टी गिनती शुरू हो चुकी है।

इस बयान के एक दिन बाद अमित जोगी ने कहा, कुछ लोग लगातार मेरे स्वर्गीय पिता का अमर्यादित भाषा से अपमान कर रहे हैं। इस से अत्यंत व्यथित होकर कल मैंने भी एक अमर्यादित शब्द का उपयोग किया। मुझे ऐसा नहीं करना था। अगर मैं भी ऐसा करने लगूंगा तो मुझ में और उनमें कोई फर्क नहीं रह जाता है। ये मेरी आंतरिक कमजोरी को दर्शाता है। मेरे लिए मां दुर्गा से प्रार्थना करिए कि चाहे परिस्थिति कितनी भी प्रतिकूल क्यों न हो, मैं हमेशा अपने माता-पिता की तरह अपना संयम कभी नहीं खोऊ। मैं आपका क्षमा प्रार्थी हूं।

Posted By: Prashant Pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस