Anant Chaturdashi 2021: रायपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। छत्‍तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में गणेश पर्व के तीसरे दिन से ही खारुन नदी के किनारे बनाए गए अस्थायी कुंड में गणेश प्रतिमाओं के विसर्जन का सिलसिला शुरू हो चुका है। रविवार को अनंत चतुर्दशी पर सुबह से रात तक हजारों प्रतिमाएं विसर्जित होगी। जो 19 से लेकर 22 सितंबर तक विसर्जन का सिलसिला चलेगा।

इसी तरह से विविध पाश कालोनी और मोहल्लों में भी अस्थायी विसर्जन कुंड बनाया गया है। साथ ही प्रमुख चौराहों पर नगर निगम के वाहन खड़े रहेंगे। श्रद्धालु अपने घर की छोटी प्रतिमाएं इन वाहनों पर रखेंगे। निगम कर्मियों द्वारा प्रतिमाओं को कुंड तक ले जाकर विधिवत पूजा-अर्चना करके विसर्जित किया जाएगा।

निकाल रहे प्रतिमा का मलबा

नदी किनारे बने विसर्जन कुंड में प्रतिमाओं की मिट्टी घुलते ही लकड़ी, पैरा का मलबा निकालने के लिए कर्मचारी फुर्ती दिखा रहे हैं। इससे कुंड साफ-सुथरा है। इसी तरह प्रतिदिन मलबा तुरंत साफ किया जाएगा। एक अनुमान के अनुसार विसर्जन कुंड में करीब 20 हजार प्रतिमाएं चार दिनों में विसर्जित की जाएगी।

न डीजे न झांकी

लगातार दूसरे साल झांकियों को अनुमति नहीं दी गई है। सीमित संख्या में समिति के सदस्य प्रतिमाओं को विसर्जन घाट ले जाएंगे। इस दौरान न डीजे का शोरगुल होगा और न ही बाजे बजेंगे।

रविवार को अनंत चतुर्दशी पर ही करें विसर्जन

महामाया मंदिर के पुजारी पं.मनोज शुक्ला के अनुसार अनंत चतुर्दशी पर भगवान विष्णु की पूजा करने का विधान है। इसी दिन प्रतिमाओं का विसर्जन करना श्रेष्ठ होगा। पूर्णिमा तिथि से श्राद्ध पक्ष शुरू हो जाएगा। पितृ पक्ष में भगवान की प्रतिमा का विसर्जन नहीं करना चाहिए।

Posted By: Kadir Khan

NaiDunia Local
NaiDunia Local