रायपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। Agriculture News: आषाढ़, श्रवण माह में कम बारिश होने के कारण किसानों के माथे में चिंता की लकीर खिंच गई थी। कई जगह पर कम बारिश की वजह से धान की बुआई भी पिछड़ गई थी। प्रदेश में खंड वर्षा होने के कारण कई क्षेत्रों में किसान आषाढ़ में ही धान की बुआई कर चुके हैं। अब उनके खेतों में धान की बाली आने लगी हैं। इससे किसानों की चिंता दूर हो गई है। बताते चलें कि बारिश में कमी के कारण किसान इस बात को लेकर परेशान थे कि यदि पानी समय पर नहीं गिरा, तो उनकी फसल खराब हो जाएगी।

उल्लेखनीय है कि इधर भादो माह में रुक-रुक कर हो रही बारिश किसानों के चेहरे खिले हुए हैं। राजधानी के आसपास खेतों में चारों तरफ हरियाली नजर आ रही है। दूसरी ओर किसान भी फसल को कीड़ों से बचाने के लिए कीटनाशक दवाई का छिड़काव किया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि प्रदेश में दशहरा मनाने के बाद कई किसान धान की कटाई शुरू कर देते है।

हालांकि, कृषि अधिकारियों का कहना है कि रायपुर जिले में इस बार शुरुआत में कम बारिश होने के कारण बुआई कार्य पिछड़ गए थे। भादो माह में प्रदेशभर में तेज बारिश होने के कारण अभी खेतों में पर्याप्त पानी है। ऐसे में धान की फसल का उत्पादन अच्छे होने की संभावना है।

रायपुर में धान की बुआई एक लाख 60 हजार हेक्टेयर में की गई है। कई जगहों पर धान की बाली निकल चुकी हैं।

- आरके कश्यप, उप संचालक, कृषि विभाग

Posted By: Shashank.bajpai

NaiDunia Local
NaiDunia Local