भिलाई। दुनिया के पांच इस्पात उत्पादक कंपनियों में स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड (सेल) का नाम जुड़ गया है। दुनिया की विश्वसनीय एजेंसी फोर्ब्स की सूची में सेल का नाम शामिल होने से भिलाई इस्पात संयंत्र सहित सेल इकाइयों के कर्मचारियों और अधिकारियों में खुशी की लहर दौड़ गई। हर तरफ शुभकामनाओं का दौर चल रहा है। सेल ने सोशल मीडिया पर इस सूचना को प्रसारित कर सबको जानकारी दी।

भिलाई इस्पात संयंत्र के मुख्य कार्यपालक अधिकारी अनिर्बान दास गुप्ता का कहना है कि फोर्ब्स की सूची में सेल का नाम शामिल होने से हमारा मान-सम्मान बढ़ा है। फोर्ब्स द्वारा जारी की गई दुनिया की 250 कंपनियों में इस साल 17 भारतीय कंपनियों को भी जगह मिली है।

इनमें स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया को स्थान मिला है। दुनिया की पांच इस्पात उत्पादक कंपनियों में सेल ने अपना स्थान बनाया है। निश्चित रूप से दुनिया के बाजार में सेल की पकड़ और मजबूत होगी। विश्वास बढ़ा है। इसे और बढ़ाने के लिए हर स्तर पर भिलाई इस्पात संयंत्र भी अपना योगदान देता रहेगा।

बता दें कि फोर्ब्स ने दुनिया की लार्जेस्ट 2000 पब्लिक कंपनियों की लिस्टिंग की। इनमें से 250 बेस्ट रिगार्डेड बिजनेस रैंक कंपनियों का चयन किया गया। इसके लिए 50 देशों के 15,000 लोगों के बीच सर्वे किया गया। इसमें खासतौर से कंपनी के प्रति विश्वास, सोशल कंडक्ट, प्रोडक्ट की क्षमता और विश्वसनीयता, सर्विस, कार्मिकों के प्रति व्यवहार एवं जिम्मेदारी पर फोकस किया गया।

सुई से चंद्रयान तक सेल की निशानी

भिलाई इस्पात संयंत्र के जनसंपर्क विभाग के मुखिया जैकब कूरियन का कहना है कि सुई से चंद्रयान तक स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड (सेल) का निशानी है। चंद्रयान-1 व 2 में सेल निर्मित स्टील लगा हुआ है। इसी तरह इस्पात संयंत्र द्वारा रेल पटरी दुनिया में अपना पहला मुकाब बनाने में कामयाब हुआ है, जो आगे भी बरकरार रखने में बीएसपी सक्षम है।

इस वित्त वर्ष में रेल उत्पादन में एक मिलियन टन का आंकड़ा पार कर चुके हैं और 13.5 लाख टन के हमारे लक्ष्य को हासिल करने की दिशा में तेजी से आगे बढ़ रहे हैं। भारत सरकार ने वर्ष 2030-31 तक देश में इस्पात उत्पादन को 300 मिलियन टन तक ले जाने की महत्वाकांक्षी योजना तैयार की है।

बीएसपी ने इस दिशा में सहयोगी की भूमिका निभाने के लिए अपना कार्य प्रारंभ कर दिया है। भिलाई इस्पात संयंत्र की स्पेशल ग्रेड की प्लेट सेना के लिए तैयार की जा रही है, जिससे देश विदेशी स्टील पर अब निर्भर नहीं है।

टॉप-5 कंपनियों के नाम

रैंक कंपनी देश

54 सीएसएन साव पावलो ब्राजील

105 टाटा स्टील भारत

152 वेलीरियो डी जनेरियो ब्राजील

153 सेल भारत

188 मेटालर्जिकापोर्टा एलेग्रे ब्राजील

Posted By: Sandeep Chourey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020