टी.सूर्याराव, भिलाई। एनजीओ मम्मा की रसोई द्वारा अब गरीबों को मुफ्त में पेसमेकर उपलब्ध कराया जाएगा। इस पेसमेकर की कीमत 60 हजार से लेकर पांच लाख रुपये तक हो सकती है। इस एनजीओ द्वारा मेकाहारा में ह्दय रोग विशेषज्ञ के साथ चर्चा कर पेसमेकर उपलब्ध कराना प्रारंभ कर दिया है। अस्पताल प्रबंधन द्वारा उन जरूरतमंदों को यह पेसमेकर लगाया जाएगा, जो इसका खर्च वहन करने में सक्षम नहीं है। दावा है कि देश में ऐसा पहली बार किसी एनजीओ द्वारा किया जा रहा है।

मम्मा की रसोई में वैसे तो भिलाई के रिसाली क्षेत्र में पांच रुपये में लोगों को भरपेट खाना खिलाया जाता है। अब इस एनजीओ द्वारा उन गरीब लोगों के दिल को धड़काया जाएगा, जो हृदय रोगी हैं और जिन्हें पेसमेकर की जरूरत है। इसे इस एनजीओ द्वारा उपलब्ध कराया जाएगा। इसके द्वारा उन लोगों से संपर्क साधा जा रहा है, जिनके घरों में बड़े बुजुर्गों को पेसमेकर लगा हुआ है। इंटरनेट मीडिया पर भी मम्मा की रसोई एनजीओ द्वारा लोगों के संपर्क कर उनसे कहा गया है कि वे पेसमेकर की आवश्यकता खत्म होने पर उसे उपलब्ध करा दें, ताकि वह पेसमेकर किसी गरीब के काम आ सके।

इस तरह से की जाएगी व्यवस्था...

मम्मा की रसोई एनजीओ के सदस्य रबींदर बाजवा बताते हैं कि मेकाहारा में हृदय रोग विशेषज्ञ डा. स्मिथ श्रीवास्तव और स्वास्थ्य मंत्रालय में पदस्थ डा. मोहम्मद जावेद कुरैशी से संपर्क साधा गया। उनसे कहा गया कि उनकी एनजीओ गरीबों के लिए पेसमेकर उपलब्ध कराएगी। जिसे वे मेकाहारा में निश्शुल्क लगवाने की व्यवस्था करवाएं। बाजवा ने बताया कि इस समय भिलाई के जीडी राव ने अपने पिता के निधन के बाद पेसमेकर उपलब्ध कराया है, जिसे मेकाहारा में पहुंचाया जाएगा। जहां पर जरूरतमंद गरीब को इसे लगाया जाएगा।

पेसमेकर इस तरह से काम करता है...

फिजीशियन डा. राहुल गुलाटी ने बताया कि पेसमेकर एक डिवाइस होती है। यह हृदय की धड़कन को मेंटेन करने का कार्य करती है। इसे हृदय के पास शरीर में लगाया जाता है। समय-समय पर बैटरी बदलने से पेसमेकर काम करता रहता है।

इस मामले में रायपुर के मेकाहारा में हृदय रोग विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. स्मिथ श्रीवास्तव ने कहा कि जो गरीब पेसमेकर की कीमत नहीं दे पाते हैं। जिनकी आर्थिक स्थिति काफी खराब है ,लेकिन उन्हें हृदय रोग होने के बाद पेसमेकर की जरूरत है। ऐसे लोगों को हम निश्शुल्क पेसमेकर लगाएंगे, जिसे मम्मा की रसोई जैसी एनजीओ लाकर हमें उपलब्ध कराएगी।

Posted By: Shashank.bajpai

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags