रायपुर। दंतेवाड़ा में नक्सली ब्लास्ट में मारे गए भाजपा विधायक भीमा मंडावी के मामले आयोग ने सुनवाई शुरू कर दी है। बुधवार को उपभोक्ता विवाद न्यायालय में जस्टिस सतीश के अग्निहोत्री ने सुनवाई शुरू की, लेकिन कोई भी गवाह अपना बयान देने नहीं पहुंचा। विशेष न्यायिक जांच आयोग की प्राथमिक रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि भाजपा के दिवंगत विधायक मंडावी की हत्या में न तो कोई साजिश हुई है और न किसी तरह से सुरक्षा में कोई चूक हुई है।

न्यायिक आयोग के अध्यक्ष जस्टिस सतीश के अग्निहोत्री ने मीडिया से चर्चा में कहा कि मामले की जांच पूरी नहीं हुई है। अभी कई और गवाह हैं, जिनके बयान दर्ज होने हैं। अब तक की जांच में यह बात जरूर सामने आई है कि भीमा मंडावी की हत्या नक्सल घटना है। इसमें किसी तरह की कोई साजिश या पुलिस की ओर से सुरक्षा में चूक की कोई बात सामने नहीं आई है।

विश्वास खो चुका जस्टिस अग्निहोत्री आयोग

भाजपा चुनाव विधिक सेल के प्रमुख नरेश गुप्ता ने कहा कि जिस तरह नामांकन के दिन जस्टिस अग्निहोत्री ने कांग्रेस प्रवक्ता की तरह प्रेस को ब्रीफ किया है, वह निंदनीय है। भाजपा तमाम कानूनी विकल्पों पर विचार कर रही है। इस आयोग को रिवोक करने के लिए पार्टी हर स्तर पर कोशिश करेगी। हम राज्यपाल को ज्ञापन देंगे और चुनाव आयोग में भी शिकायत करेंगे।

Posted By: Hemant Upadhyay