रायपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे को इस बजट में विकास कार्य के लिए पिछले साल की तुलना में तीन गुना अधिक राशि का आवंटन किया गया है। इस बजट में नागपुर और बिलासपुर के बीच 160 किमी प्रतिघंटा की हाई स्पीड से ट्रेन चलाने को लेकर रेल लाइन के दोनों तरफ 383 बाउंड्रीवॉल और फेंसिंग के काम की स्वीकृति पिछले बजट में मिली थी। इस बार 75 किलोमीटर की और स्वीकृति मिली है। इसके साथ ही बिलासपुर-दुर्ग के बीच से नौ स्टेशनों की प्लेटफॉर्म की ऊंचाई में वृद्धि करने का काम किया जाएगा। इसके साथ ही रापयुर रेलवे मंडल से स्टेशनों में कोच इंडिकेशन लगाया जाएगा। भाटापारा रेलवे स्टेशन में अतिरिक्त बुकिंग काउंटर खोला जाएगा।

ज्ञात हो कि बजट में रेलवे की चल रही विभिन्ना परियोजनाओं और नई परियोजनाओं, कार्यों और मदों के लिए प्रति वर्ष बजट का प्रावधान किया जाता है। इस वर्ष के बजट में केंद्र सरकार ने यात्रियों की सुविधाओं को देखते हुए पिछले वर्ष दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे को 59.98 करोड़ रुपये की तुलना में इस वर्ष यात्री सुविधा काम के लिए तीन गुना अधिक 176.74 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं। इसमें जोन के स्टेशनों में 10 अतिरिक्त नए एस्केलेरेटर का काम किया जाएगा।

बजट में इसकी मिली स्वीकृति

- रायगढ़ से कटनी स्टेशन के बीच 15 स्टेशनों (सिंगपुर, हरड़, कटोरा, घुटकू, बेलगाहना, टेंगणमादा, खोडरी, गतौरा, मदवारानी, सरगबूंदिया, उरगा, झारीडीह, राबर्ट्‌सन बेलपहाड़ आदि ) की ऊंचाई में वृद्धि का काम।

- बिलासपुर से दुर्ग के बीच नौ स्टेशनों ( दाधापारा, चकरभाटा, दगोरी, निपनिया, मांढर, उरकुरा, सरोना, सिलीयारी एवं कुम्हारी ) पर प्लेटफार्म की ऊंचाई में वृद्धि का काम

- दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे में 60 फुट ओवर ब्रिज का काम, जिसमें बिलासपुर मंडल में 19, रायपुर मंडल में दो तथा नागपुर मंडल में 39 शामिल हैं।

- बिलासपुर मंडल के अंतर्गत स्टेशनों में दिव्यांग टॉयलेट की सुविधा में बढ़ोत्तरी ।

- रायपुर मंडल अंतर्गत स्टेशनों में कोच इंडिकेशन बोर्ड का काम

- भाटापारा स्टेशन में अतिरिक्त बुकिंग काउंटर का काम

- नागपुर मंडल स्थित गोंदिया, भंडारा, राजनांदगांव, डोंगरगढ़ एवं बालाघाट में कोच इंडीकेशन बोर्ड तथा दिव्यांग टायलेट की सुविधा ।

-शहडोल स्टेशन में क्विक वाटरिंग प्रणाली का काम

- गैर पारंपरिक ऊर्जा के इस्तेमाल को अधिक से अधिक बढ़ावा देने के लिए पिछले वर्ष के 72 करोड़ की तुलना मे इस वर्ष 156 करोड़ रुपये आवंटित किया गया है ।

- बिलासपुर यार्ड की रिमॉडलिंग ।

-बिलासपुर नागपुर के बीच गाड़ियों को 160 कि.मी. घंटा की रफ्तार देने के लिए रेल लाइन के दोनों तरफ 383 कि.मी. बाउंड्रीवॉल, फेंसिंग का काम, जो पूर्व में स्वीकृत था, जिसमें 75 किमी की अतिरिक्त स्वीकृति दी गई है।

Posted By: Nai Dunia News Network