रायपुर। Protest Against GST Laws: जीएसटी विसंगतियों के विरोध में कॉन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) द्वारा शुक्रवार 26 फरवरी को भारत बंद किया जा रहा है। जीएसटी, ईवे बिल के विरोध में कैट के भारत बंद के समर्थन में देशभर के 40 हजार से अधिक और प्रदेश के 100 से अधिक व्यापारिक संगठनों का समर्थन है। कैट के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अमर पारवानी ने कहा कि कोरोना काल के बाद से ही व्यापार जगत को बहुत सी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

इस मुश्किल हालात में भी केंद्र सरकार द्वारा व्यापारियों पर जीएसटी के नए प्रावधान को लादा जा रहा है। इससे व्यापारी अपने व्यापार पर बिल्कुल भी ध्यान नहीं दे पा रहे है। इन विसंगतियों की वजह से ही यह हड़ताल किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि पूरे व्यापारिक संगठनों का इस बंद को लेकर समर्थन है। लेकिन इस बंद से पेट्रोल पंप, दवा दुकानें जैसी आवश्यक सेवा और स्कूल-कालेज को दूर रखा गया है। कैट के प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष विक्रम सिंहदेव ने कहा कि जीएसटी के इन नियमों का विरोध जरूरी है।

चैंबर का समर्थन नहीं

बंद को छत्तीसगढ़ चैंबर आफ कामर्स ने समर्थन नहीं दिया है। चैंबर अध्यक्ष जितेन्द्र बरलोटा, प्रवक्ता ललित जैसिंघ ने कहा कि इस बंद के समर्थन के लिए कैट का पत्र उनके पास बुधवार को आया और इतने जल्दी प्रदेश भर के व्यापारियों से बातचीत नहीं की जा सकती। इसलिए चैंबर ने समर्थन नहीं दिया है। इसके साथ ही रायपुर सराफा एसोसिएशन के अध्यक्ष हरख मालू ने भी सराफा बाजार खुला रहने की बात कही है।

व्यापारिक समस्याओं के निराकरण के लिए हो रहा बंद

कांग्रेस व्यापार प्रकोष्ठ के अध्यक्ष राजेंद्र जग्गी ने कहा कि यह भारत बंद व्यापारियों की समस्याओं के हल करने के लिए किया जा रहा है। उसमें कुछ लोगों द्वारा राजनीति की जा रही है। जीएसटी के ये नियम व्यापारियों के लिए नुकसानदायक है। नियमों के विरोध में बंद किया जाना जरूरी है।

Posted By: Shashank.bajpai

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags