रायपुर (नईदुनिया प्रतनिधि)। Chhattisgarh Political Drama: क्या छत्तीसगढ़ की राजनीति में भी ‘पंजाबी’ तड़का लग सकता है। वहां गुटबाजी खत्म करने के लिए कांग्रेस आलाकमान ने चरणजीत सिंह चन्नी को मुख्यमंत्री बना दिया है। पंजाब में कैप्टन की कप्तानी बदलने के साथ ही छत्तीसगढ़ कांग्रेस में बदलाव की आहट तेज हो गई है। दरअसल, राज्य के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव सोमवार को दिल्ली पहुंच रहे हैं। उनके इस दौरे से एक बार फिर छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री को बदलने की अटकलें तेज हो गई हैं। हालांकि, टीएस सिंहदेव का यह दिल्ली दौरा पहले से तय था। दरअसल, वहां उनकी बहन आशा देवी रहती हैं, जिनका आज जन्मदिन है।

बताया जा रहा है कि सिंहदेव उसी कार्यक्रम में शामिल होने के लिए गए हैं। इस दौरान वह दिल्ली में वरिष्ठ नेताओं से भी मुलाकात कर सकते हैं। इसके बाद से ही अटकलों का दौर तेज हो गया। उधर, बताया जा रहा है कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के आवास पर पिछले तीन दिनों से 20 विधायक रोज पहुंच रहे हैं। इससे पहले रविवार को ही मुख्यमंत्री भूपेश बघेल 2800 करोड़ रुपए से ज्यादा की योजनाएं करके अपनी मजबूत स्थिति को जताने की कोशिश की है। बताते चलें कि टीएस सिंहदेव और भूपेश बघेल के बीच सीएम पद को लेकर बीते कई दिनों से विवाद चल रहा है।

बीते दिनों दोनों ही नेता दिल्ली में आलाकमान से मिलने भी पहुंचे थे और उसके बाद विवाद को शांत करा दिया गया था। मगर, पंजाब में हुए बदलाव ने एक बार फिर से सिंहदेव के दिल में छिपी मुख्यमंत्री बनने की चाह को हवा दे दी है। बताते चलें कि सिंहदेव का कहना है कि ढाई-ढ़ाई साल के फॉर्मूले के तहत उन्हें मुख्यमंत्री बनाने की बात हुई थी। वहीं इस मामले में बघेल का कहना है कि पूर्ण बहुमत की सरकार में ढ़ाई-ढ़ाई साल के फॉर्मूले नहीं चलते हैं। मैं आलाकमान के निर्देश से मुख्यमंत्री बना हूं, जब आलाकमान का आदेश होगा, तो मैं पद छोड़ दूंगा।

Posted By: Shashank.bajpai

NaiDunia Local
NaiDunia Local