रायपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। Power Supply: सूबे में अवर्षा की स्थिति के चलते विद्युत की मांग 4905 मेगावाट के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचने पर सतत निगरानी और सही समय पर कार्यवाही करने से विद्युत आपूर्ति की व्यवस्था कारगर रही। कृषि पंप कनेक्शन वाले क्षेत्रों को चिन्हित कर 66 पावर ट्रांसफार्मर की क्षमता बढाई गई है, ताकि घरेलू उपभोक्ताओं के साथ किसानों को भी निर्बाध बिजली मिलती रहे।

विद्युत कृषि पंप के भार को संभालने के लिए केवल बिजली की उपलब्धता सुनिश्चित करना हल नहीं है। बढ़ी मांग के अनुरूप पावर टांसफार्मर की क्षमता भी उसी अनुरूप होनी चाहिये। प्रदेश में बिजली डिमांड 4905 मेगावाट तक पहुंच चुकी है, उपलब्धता भी है किंतु कुछ विशेष क्षेत्रों कृषि पंपों के कारण लोड अचानक बढ़ जाता है, ऐसे में बिजली उपलब्ध रहने पर भी निर्बाध बिजली आपूर्ति में समस्या आती है। इसका एकमात्र उपाय पावर ट्रांसफार्मर की क्षमता में वृद्धि करना है। विद्युत वितरण कंपनी इस चुनौती को समझते हुए पहले से तैयार रही।

गर्मी से अब तक सिंचाई पंपों के लोड के संतुलन के लिए 66 पॉवर ट्रांसफार्मर की क्षमता बढाने का कार्य किया गया। तीन महीने के भीतर इतनी क्षमता वृद्धि पहली बार की गई है। इसके पहले पिछले साल 30 ट्रांसफार्मर की क्षमता बढ़ाई गई थी। इस बार 66 ट्रांसफार्मर की क्षमता बढ़ाना अपने आप में ही एक नया रिकॉर्ड बन गया है। इन कार्यों के कारण पंप बाहुल्य क्षेत्रों में पावर की उपलब्धता बहुत सुदृढ़ हुई है। गौरतलब है कि इस वर्ष पहले से ही पॉवर ट्रांसफार्मर की क्षमता लोड के अनुरूप करने के लिए कार्य आरंभ कर दिए गए थे, जिसका सीधा लाभ खरीफ़ (धान) की फसल के समय भी मिला।

रबी फसल के समय 33/11के वी के 25 उपकेंद्रों की क्षमता वृद्धि के कार्य हुए, जिसके तहत 20 अतिरिक्त नए पावर टांसफार्मर स्थापित किए गए और पांच पावर ट्रांसफॉर्मर को अधिक क्षमता के पावर ट्रांसफार्मर से उन्नयन भी किया गया। उल्लेखनीय है कि अकेले महासमुंद जिले में ही 10 उपकेंद्रों में 11 पावर ट्रांसफार्मर की क्षमता बढ़ाई गई। जिले के पीरदा, बुंदेली, नर्रा, देवरी, भगत देवरी, कनकेवा, लिमदरहा, मुड़ागांव, मुंगासेर, आरंगी हैं।

इसी तरह कांकेर जिले में पांच उपकेंद्रों मथुराबाजार, पखांजुर, गोंडाहूर, कापसी और बांदे के पावर ट्रांसफार्मर की क्षमता वृद्धि की गई है। इसी तरह बलौदाबाजार भाटापारा जिले में ढेकुना और सिंगारपुर, राजनांदगांव जिले में छुरिया और सड़क चिरचारी, गरियाबंद जिले में मुड़ागांव, जांजगीर-चांपा जिले में सलनी, बेमेतरा जिले में नांदघाट और खैरझिटी और सूरजपुर जिले में किशनपुर (कलुआ) में पावर ट्रांसफार्मर की क्षमता वृद्धि हुई है।

खरीफ के सीजन में भी पावर ट्रांसफार्मर क्षमता वृद्धि को भी प्रथमिकता मिली और कुल 41 उपकेेंद्रों को क्षमता वृद्धि के लिए चयनित किया गया है। राजनांदगांव, बेमेतरा, बालोदबाज़ार-भाटापारा, रायगढ़, कबीर धाम, दुर्ग, महासमुंद जिले में कार्य प्रगति पर हैं।

Posted By: Shashank.bajpai

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags