रायपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)।

कान्फेडरेशन ऑफ आल इंड़िया ट्रेडर्स (कैट) दीपावली तक देश के छोटे कारोबारियों को आत्मनिर्भर बनाएगा। कैट ने भारतीय सामान का अधिक से अधिक इस्तेमाल करने के लिए अभियान शुरू किया है। कैट का मानना है कि भारत-चीन विवाद देश के छोटे कारोबारियों व शिलप्कारों के लिए वरदान है। इससे लोगों में भी स्वदेशी वस्तुओं के प्रति जागरूकता बढ़ी है।

कैट के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अमर पारवानी और प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष विक्रम सिंहदेव का कहना है कि भारत-चीन विवाद ने लाखों स्थानीय कारीगरों, शिल्पकारों, निचले वर्ग के लोगों की कला, सोच और काम करने की शक्ति को उभारने का मौका दिया है। कैट के अनुसार इससे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लोकल पर वोकल और आत्मनिर्भर भारत अभियान को मजबूती मिली है। कैट के साथ दूसरे व्यापारिक संगठनों ने चीनी वस्तुओं का बहिष्कार करने का फैसला किया है। इसी कड़ी में कैट ने इस वर्ष की दीपावली को 'हिंदुस्तानी दीपावली' के रूप में मनाने का आह्वान किया है। कैट ने पूजा और सजावट में इस्तेमाल होने वाले भारतीय सामान का दिल्ली सहित देश भर में अधिक से अधिक उपयोग करने के लिए विशेष अभियान शुरू किया है। कैट के अनुसार चीन त्योहारी सीजन में प्रति वर्ष लगभग 40 हजार करोड़ के सामान का निर्यात भारत को करता था, लेकिन इस वर्ष नहीं कर पाएगा।

350 समूहों की पहचान

कैट ने देश भर में 350 समूहों की पहचान की है जो दीपावली के मौके पर पूजा में इस्तेमाल होने वाले और दुकानों -घरों को सजाने का सामान बनाते हैं। इनके सामान में भारत की प्राचीन परंपरा और संस्कृति की झलक दिखाई पड़ती है। ये मिटटी, गोबर और खाद से बने दीये , कलात्मक दीये, वंदनवार, लक्ष्‌मी जी के पैर, शुभ-लाभ का चि-, झालर, हैंगिंग लाइट, खादी का सजावटी सामान, मोती और बीड से बना सामान, मधुबनी और अन्य पेंटिंग सहित अन्य अनेक प्रकार की सामग्री बनाते हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस