रायपुर। Chhattisgarh: नियमों के उल्लंघन को लेकर ई कामर्स कंपनियों से चल रही लड़ाई में कैट का कहना है कि वह भारतीय कंपनी का साथ देगा। इस संबंध में कैट ने फिक्की और सीआइआइ पर निशाना भी साधा है। कैट के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अमर पारवानी ने बताया कि इन विदेशी आनलाइन कंपनियों द्वारा भारतीय कंपनी पर कब्जा जमाने की कोशिश की जा रही है।

यह कब्जा अनैतिक रूप से किया जा रहा है और कैट इसका विरोध करता है। उन्होंने कहा कि इस मामले में अभी तक सीआइआइ और फिक्की जैसे उद्योग संगठन भी कुछ नहीं बोल रहे है। कैट का कहना है कि भारतीय कम्पनी के साथ हमारे मतभेद देश का अंदुरनी मामला है जिसे हम सुलझा लेंगे किन्तु कोई विदेशी कम्पनी यदि भारतीय कम्पनी का अनैतिक तरीके से अधिग्रहण करेगी तो यह बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

इस संबंध में पिछले दिनों कैट ने वित्त मंत्री और वाणिज्य मंत्री को सबूती दस्तावेज के साथ ज्ञापन भी सौंपा है। कैट ने इन विदेशी आनलाइन कंपनियों पर नियमों का उल्लंघन का आरोप लगाया है। पारवानी ने बताया कि कैट ने इन कंपनियों पर वाणिज्य मंत्री और वित्त मंत्री से तत्काल कार्रवाई की मांग की है।

कंपनियों के खिलाफ शुरू किया आंदोलन

राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पारवानी ने बताया कि इन आनलाइन कंपनियों की वजह से देश का खुदरा व्यापार प्रभावित हो रहा है। इसके देखते हुए कैट ने इन कंपनियों के खिलाफ देशभर में आंदोलन भी शुरू कर दिया है। यह विरोध 31 दिसंबर तक रहेगा। उन्होंने बताया कि सभी व्यापारियों को एकजूट किया जा रहा है। साथ ही अगले माह से कैट द्वारा भी स्थानीय व्यापारियों के लिए आनलाइन पोर्टल शुरू किया जाएगा।

Posted By: Himanshu Sharma

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस