रायपुर। देश में 2021 में होने वाली जनगणना पूरी तरह डिजिटल होगी। संभव है कि इस बार गणना कर्मियों को बिंदुओं वाले जनगणना फार्म की गठरी लेकर न घूमना पड़े। हाथ में डिजिटल मशीन लेकर कर्मचारी पहुंचेंगे और उसी में ही सारी फीडिंग की जाएगी। फीडिंग पूरी होने के बाद पूरा डाटा ऑनलाइन ही जनगणना मंत्रालय को सीधे भेज दिया जाएगा।

जनगणना की प्रक्रिया मार्च 2021 से शुरू होगी, लेकिन इसकी तैयारी अभी से शुरू हो गई है। इसके लिए राज्य के सभी शहरों और नगरीय निकायों से उनका अपडेटेड डिजिटल मैप (नक्शा) मांगा गया है। अफसरों ने बताया कि सभी शहर के नक्शे की वर्तमान डिजिटल और हार्डकॉपी एकत्र की जा रही है। इस मैप में वहां की नवीनतम वार्ड सीमाएं, उनकी संख्या, मुख्य यातायात सेवाएं, जल स्त्रोत, और मुख्य पहचान सीमा चिन्ह की जानकारी भी दर्शाने को कहा गया है।

तैयार हो रहा साफ्टवेयर

जगणना की तैयारी में जुटे अफसरों के अनुसार डिजिटल जगणना के लिए साफ्टवेयर तैयार कराया जा रहा है। साफ्टवेयर में संबंधित क्षेत्र का नक्शा भी रहेगा। इसी के लिए नक्शा एकत्र किया जा रहा है।

10 वर्ष में बहुत कुछ बदल गया

अफसरों के अनुसार पिछली बार 2011 में जनगणना हुई थी, तब से अब तक में राज्य के अंदर की सीमाओं में काफी बदलाव हुआ है। कई शहरों की सीमाएं बढ़ गई हैं। इस दौरान नौ नए जिले बन चुके हैं। 10वें जिले के निर्माण की प्रक्रिया चल रही है। इसी तरह नगरीय निकायों का परिसीमन हो चुका है। कई निकायों में वार्डों की संख्या बढ़ गई है। सड़क समेत कई निर्माण कार्य हुए हैं।

Posted By: Hemant Upadhyay