रायपुर (राज्य ब्यूरो)। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल रविवार को नईदिल्ली में कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में शामिल होंगे। दिल्ली रवाना होने से पहले मुख्यमंत्री ने मीडिया से चर्चा में कहा कि कांग्रेस मुख्यालय में कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक है। यह बैठक राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे लेंगे। बैठक में कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा और कांग्रेस के राष्ट्रीय अधिवेशन को लेकर चर्चा होगी।

मुख्यमंत्री ने आरक्षण विधेयक पर राज्यपाल अनुसुईया उइके के उस बयान का स्वागत किया, जिसमें राज्यपाल ने कहा था कि आरक्षण संशोधन विधेयक पर सोमवार को हस्ताक्षर कर देंगी। मुख्यमंत्री ने शनिवार सुबह विधेयक पर जल्द हस्ताक्षर होने की उम्मीद प्रकट की थी।

मुख्यमंत्री ने आरक्षण विधेयक पर भाजपा के उस आरोप का करारा जवाब दिया, जिसमें भाजपा नेताओं ने कहा था कि भानुप्रतापपुर विधानसभा उपचुनाव को देखते हुए सरकार ने यह विधेयक लाया है। सीएम बघेल ने कहा कि इस तरह की बातों से भाजपा का मानसिक दिवालियापन झलकता है। एक उपचुनाव में इससे क्या फर्क पड़ जाएगा। यह तो पूरे प्रदेश की जनता का मामला है।

चुनाव तो होते रहेंगे, ये जो कल हुआ मील का पत्थर है। आरक्षण विधेयक से तय होगा कि किस प्रकार प्रदेश आगे बढ़ेगा, इसका रोड मैप है। यह बताता है कि हम सभी वर्गों को साथ लेकर चलना चाहते हैं। भाजपा भानुप्रतापपुर उपचुनाव बुरी तरह हार रही है। उनके बयान केंद्रीय नेताओं के सामने अपना चेहरा बचाने की कवायद है। जब हार जाएंगे तो आलाकमान को बता सकें कि इस वजह से हम हारे, वैसे वो हार ही रहे हैं।

मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान से घटा कुपोषण

मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि हमने मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान शुरू किया है। इस योजना में गर्म भोजन परोसा जाता है। इसके कारण कुपोषण दर में कमी आई है। सफलता मिल रही है, 2.1 प्रतिशत कुपोषण दर में कमी आई है। वहीं, बेरोजगारी दर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार रोजगार देने के लिए रणनीति से काम कर रही है। कांग्रेस की नीति है कि लोगों की जेब में पैसा जाए। इसके कारण ही बेरोजगारी दर कम हो रही है।


राहुल के जय सियाराम का किया समर्थन-

मुख्यमंत्री बघेल ने राहुल गांधी के जय सियाराम के बयान का समर्थन किया। उन्होंने कहा कि आरएसएस में कोई महिला विंग ही नहीं होता। आज तक कोई महिला सरसंघचालक, सह कार्यवाहक जैसे पदों पर नहीं पहुंची। इनकी तो मानसिकता ही महिला विरोधी है। हम तो जय सियाराम बोलते हैं। राहुल गांधी ने ठीक कहा है, आरएसएस तो महिला विरोधी ही है, वहां महिलाएं कहां हैं। गौरतलब है कि राहुल गांधी ने कहा था कि संघ वाले जय श्रीराम बोलते हैं, न कि जय सियाराम। वहां कोई सीता नहीं है। उन्होंने सीता को बाहर रखा है, क्योंकि वे सीता की पूजा नहीं करते हैं।

Posted By: Pramod Sahu

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close