रायपुर नईदुनिया प्रतिनिधि। Chaitra Navratri 2020 कई सालों से लगातार हर साल दोनों नवरात्र चैत्र और शारदीय नवरात्र में सत्ती बाजार स्थित अंबा देवी मंदिर में सप्तमी तिथि पर महाआरती में सैकड़ों महिलाएं अपने घर से आरती का थाल सजाकर आती थीं। ठीक सात बजे शुरू होने वाली आरती में शामिल होने के लिए महिलाओं का पांच बजे से ही आना शुरू हो जाता था। इस बार कोरोना वायरस के चलते मंदिर में होने वाली महाआरती की मात्र औपचारिकता निभाई जाएगी। महाआरती में पुजारी और एक-दो सेवादार ही शामिल होंगे।

मंदिर न आएं भक्त

मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष गोवर्धन शर्मा ने भक्तों से अनुरोध किया है कि वे अपने घर पर ही रहकर आरती करें। जब तक देश भर में लॉकडाउन की स्थिति है, तब तक मंदिर में दर्शन करने भी न आएं। कोरोना के मद्देनजर मंदिर का मुख्य प्रवेश द्वार भक्तों के लिए बंद रखा गया है। इन दिनों नवरात्रि में मात्र पुजारी ही पूजा की परंपरा निभा रहे हैं।

अष्टमी हवन में भक्त नहीं दे सकेंगे आहुति

राजधानी के सभी देवी मंदिरों में इस बार अष्टमी हवन पर आहुति देने भक्तों की भीड़ नहीं उमड़ेगी। आचार्य और मुख्य यजमान ही हवन करेंगे। हवन के दौरान भी भक्तों को मंदिर में प्रवेश नहीं दिया जाएगा।

नहीं निकलेगी जोत-जंवारा यात्रा

हर साल नवमीं तिथि पर शहर के मंदिरों और घर-घर में प्रज्वलित भक्तों की आस्था जोत का विसर्जन कंकाली तालाब में किया जाता है। धूमधाम से जंवारा यात्रा निकाली जाती है, मन्नतधारी भक्तगण अपने गालों, हाथों, सीने को तीरों, भालों से छिदवाकर सांग-बाणा धारण कर निकलते हैं। इस बार नवमीं तिथि पर जंवारा यात्रा भी नहीं निकाली जाएगी।

कन्या पूजन में नहीं बुलाएंगे कन्याओं को

मंदिरों और घर-घर में नवमीं पर माता को भोग अवश्य लगेगा लेकिन इस बार ऐहतियात के तौर पर कन्याओं को भोजन करवाने नहीं बुलाया जाएगा। परिवार के सदस्यों को ही माता का प्रसाद अर्पित किया जाएगा।

अष्टमी हवन मुहूर्त

रात्रि 11.30 से पूर्णाहूति रात्रि 3.40 बजे तक

घर में पूजन-हवन में करें इस्तेमाल

पुजारी चंद्र मोहन शुक्ला के अनुसार घर में पूजा करने के लिए चावल, सुपारी, रोली, मौली, जौ, सुगंधित पुष्प, केसर, सिंदूर, लौंग, इलायची, पान, सिंगार सामग्री, दूध-दही,गंगाजल, शहद, शक्कर, शुद्घ घी, वस्त्र, आभूषण, विल्बपत्र, जनेऊ, मिट्टी का कलश, मिट्टी का पात्र, दूर्वा, इत्र, चंदन, चौकी, लाल वस्त्र, धूप- दीप, फूल, नैवेद्य, अबीर, गुलाल, स्वच्छ मिट्टी, थाली, कटोरी, जल, ताम्र कलश, रुई, नारियल आदि रखें।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना