रायपुर( नईदुनिया प्रतिनिधि)।आकाश शुक्ला। छत्तीसगढ़ के प्रत्येक पंजीकृत आयुष चिकित्सकों को हेल्थकेयर प्रोफेशनल रजिस्ट्री में पंजीयन कराना होगा। इसे लेकर राज्य आयुर्वेदिक व यूनानी चिकित्सा पद्धति एवं प्राकृतिक चिकित्सा बोर्ड ने निर्देश जारी किया है।

बता दें कि आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन (एबीडीएम) के तहत भारत सरकार ने स्वास्थ्य सेवा प्रणाली में सुदृण करने के लिए डिजिटल हेल्थ इकोसिस्टीम" विकसित कर रही है। इसके अंतर्गत हेल्थकेयर प्रोफेशनल रजिस्ट्री (एचपीआर) में देश के सभी डाक्टर्स और पैरामेडिक्स का रजिस्ट्रेशन शुरू कर दिया गया है। राज्य आयुर्वेद बोर्ड ने सभी पंजीकृत आयुर्वेद, होम्योपैथी यूनानी योग चिकित्सा से संबंधित डॉक्टरों को इसमें पंजीकृत करने के लिए कहां है।

राज्य आयुर्वेद बोर्ड ने सभी पंजीकृत आयुर्वेद, होम्योपैथी यूनानी योग चिकित्सा बोर्ड के रजिस्ट्रार डॉक्टर संजय शुक्ला ने बताया कि इस पंजीकरण के बाद चिकित्सक देश में नए विकसित हो रहे "डिजिटल हेल्थ इकोसिस्टीम" का हिस्सा बनेंगे। रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया पूरी तरह से निश्शुल्क है। पंजीकरण प्रक्रिया बहुत आसान है, और इसे पांच मिनट में पूरा किया जा सकता है। डॉक्टर शुक्ला ने बताया कि पंजीकरण के बाद आयुष चिकित्सक आनलाइन इलाज चाहने वाले मरीजों के लिए उपलब्ध होंगे। वहीं चिकित्सकों का नाम केंद्र सरकार के पोर्टल पर दिखाई देगा।

इस तरह कराएं केंद्रीय पोर्टल में पंजीयन

बोर्ड के रजिस्ट्रार डा. शुक्ला ने बताया कि आयुष चिकित्सक केंद्र सरकार के पोर्टल https://ndhm.gov.in पर जाकर निशुल्क पंजीयन कराएं। आनलाइन पंजीकरण करने के बाद सत्यापित प्रोफ़ाइल NCISM द्वारा सत्यापन के बाद नेशनल प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध होगा। उसके बाद आप रोगियों को खोजने और कनेक्ट करने के लिए सभी स्वास्थ्य सेवा प्रदाता वेबसाइटों और एप्लिकेशन पर आनलाइन दिखाई देंगे।

पंजीयन से चिकित्सकों को यह होगा फायदा

बोर्ड के रजिस्ट्रार डा. शुक्ला ने बताया कि एचपीआर में पंजीकृत होने के बाद चिकित्सक अधिक से अधिक रोगियों तक आनलाइन पहुंच सकते हैं। टेलीमेडिसिन के माध्यम से प्रभावी स्वास्थ्य सेवा प्रदान कर सकते हैं। पंजीकरण के बाद स्टेट मेडिकल काउंसिल और एनसीआइएसएम द्वारा सीएमई क्रेडिट पाइंट के आनलाइन पंजीकरण को ट्रैक किया जाएगा।

सभी शासकीय अस्पताल व चिकित्सक जुड़ेंगे

बोर्ड के रजिस्ट्रार डा. शुक्ला ने बताया कि आयुष से जुड़े सभी शासकीय अस्पताल व चिकित्सकों को एचपीआर से जोड़ा जाएगा, जिसके माध्यम से आप सरकार द्वारा आवश्यक चिकित्सा सेवाएं आनलाइन प्रदान कर सकेंगे। इसमें नामांकन करने के बाद, आप विभिन्न योजनाओं के लिए सरकार द्वारा आवश्यक एनओसी और चिकित्सक के लिए विभिन्न सरकारी योजनाओं का लाभ उठा सकेंगे।

राज्य आयुर्वेदिक व यूनानी चिकित्सा पद्धति एवं प्राकृतिक चिकित्सा बोर्ड के रजिस्ट्रार डा. संजय शुक्ला ने कहा, आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के तहत राज्य पंजीकृत आयुष चिकित्सकों को हेल्थकेयर प्रोफेशनल रजिस्ट्री करने कहा गया है। कई चिकित्सकों ने पंजीयन की प्रक्रिया शुरू कर दी है। केंद्र सरकार के इस मिशन से चिकित्सा सेवाएं सुदृढ़ होगी वही पारदर्शिता भी आएगी।

राज्य में पंजीकृत आयुष डाक्टर

-4,394 आयुर्वेद से अधिक आयुर्वेद डाक्टर

-2,283 से अधिक मुजफ्फरपुर होम्योपैथी चिकित्सक पंजीकृत

-254 यूनानी पद्धति के चिकित्सक

-126 से अधिक प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति के डाक्टर

Posted By: Kadir Khan

NaiDunia Local
NaiDunia Local