रायपुर। अंतरराष्ट्रीय मार्केट के प्रभाव से दोनों कीमती धातुओं की चमक लगातार बढ़ रही है। विशेषकर सोने की कीमतों में तो जबरदस्त तेजी आ गई है। बीते 198 दिनों में यानि केवल साढ़े आठ महीनों में सोना 9200 रुपये महंगा हो गया है। वहीं चांदी की कीमतों में भी 8700 रुपये की उछाल आ गई है। भले ही सराफा बाजार में ग्राहकी में सन्नााटा पसरा हुआ है लेकिन रिटर्न देने के मामले में सोने ने बाजी मार ली है। रिटर्न देने के मामले में गोल्ड ने जहां पिछले आठ सालों की तुलना में बाजी मारी है और निवेशकों को 23 फीसद तक रिटर्न दिया है। दूसरी ओर कारोबार की बात की जाए तो बीते त्योहारी सीजन के बाद से ही सराफा की रफ्तार काफी सुस्त है।

कारोबारियों की मानें तो पिछले शादी सीजन की अपेक्षा इस सीजन में कारोबार 50 फीसद गिर गया है। ग्राहकों अभी भी कीमतों में कमी आने का इंतजार कर रहे है और शादी सीजन भी अब समाप्ति की ओर है। इससे पहले साल 2012 में सोने ने 18 फीसद रिटर्न दिया था और उसके बाद सबसे ज्यादा रिटर्न देने के मामले में 2019 रहा।

साथ ही कारोबारियों द्वारा भी उपभोक्ताओं की डिमांड के अनुसार ही माल मंगाए जा रहे है। रायपुर सराफा एसोसिएशन के अध्यक्ष हरख मालू ने बताया कि ऊंची कीमतों के कारण सराफा की रफ्तार थोड़ी सुस्त हो गई है। साथ ही अब शादी सीजन भी खत्म होने को है। ऐसे में ग्राहकी पर असर पड़ा है।

ऐसे बढ़े दाम

1 जून 2019

सोना 33200 रुपये प्रति दस ग्राम,चांदी 38700 रुपये प्रति किलो

18 फरवरी 2020

सोना 42400 रुपये प्रति दस ग्राम,चांदी 47400 रुपये प्रति किलो

गोल्ड लोन में भी लोएस्ट इएमआई

सोने की लगातार बढ़ती कीमतों को देखते हुए इन दिनों गोल्ड लोन कंपनियां भी बड़ी तेजी के साथ अपनी पॉ लिसियां बदल रही है। उपभोक्ताओं को आसानी से गोल्ड लोन उपलब्ध कराने के साथ ही कंपनियां लोएस्ट डाउन पेमेंट पर लोन उपलब्ध करा रही है। साथ ही अपनी मार्जिन मनी में भी बदलाव कर रही है।

Posted By: Himanshu Sharma