रायपुर (नईदुनिया, राज्य ब्यूरो)। छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश की प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कुछ नेता राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा को अपने-अपने राज्य से राज्यसभा में भेजने की बात कह चुके हैं। हालांकि संगठन के नेता कह रहे हैं कि राज्यसभा कौन जाएगा, इसका फैसला हाईकमान करेगा। लेकिन प्रियंका को टिकट मिलता है तो यह यह कांग्रेस ही नहीं प्रदेश के लिए भी सौभाग्य की बात होगी।

मालूम हो कि छत्तीसगढ़ की दो और मध्यप्रदेश के कोटे की तीन राज्यसभा की सीटें अप्रैल में खाली हो रही हैं। इसके लिए चुनाव की प्रक्रिया अगले महीने शुरू होगी। राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका को राज्यसभा में भेजे जाने को लेकर कांग्रेस संगठन में अचानक चर्चा तेज हो गई है।

इस संबंध में पार्टी के वरिष्ठ नेता और सरकार में मंत्री मोहम्मद अकबर से पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि इस बारे में मुझे किसी फैसले की जानकारी नहीं है। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में कांग्रेस के पास स्पष्ट बहुमत है। ऐसे में पार्टी हाईकमान जिसके भी नाम पर सहमति देगा, उसका चुनाव हो जाएगा। इसके लिए किसी तरह की एक्सरसाइज की आवश्‍यकता नहीं पड़ेगी। इस मामले में जो भी होगा सीधे होगा।

प्रदेश के बाहर के नेता को मिल सकती है एक सीट

प्रदेश संगठन से जुड़े नेताओं की राय में दो में से एक सीट राज्य के बाहर के किसी नेता को मिल सकती है। यहां पार्टी के पास इतना बड़ा बहुमत है कि चुनाव दर चुनाव सभी पांचों सीट कांग्रेस के पास आ जाएगी। वैसे भी मोहसिना किदवई लंबे समय तक राज्य के कोटे से राज्यसभा में रह चुकी हैं।

यहां दोनों सीटों पर कांग्रेस, एमपी में दो तय

छत्तीसगढ़ की जो दो सीटें खाली हो रही हैं, उनमें एक सीट से कांग्रस के वरिष्ठ नेता मोतीलाल वोरा और दूसरे से भाजपा के रणविजय सिंह जूदेव फिलहाल राज्यसभा के सदस्य हैं। दोनों का कार्यकाल नौ अप्रैल को खत्म हो रहा है। 90 सदस्यीय छत्तीसगढ़ विधानसभा में कांग्रेस के पास 69 विधायक हैं, ऐसे में अब दोनों सीटें कांग्रेस के खाते में जाएंगीं। वहीं, एमपी में तीन में से दो सीट कांग्रेस के पास रहेगी।

एमपी में बयानबाजी का दौर

भोपाल कार्यालय के अनुसार पीसीसी ने इस मामले में मौन सा रखा है। पार्टी के विधायक, पीसीसी पदाधिकारी जरूर प्रियंका को प्रदेश से राज्यसभा भेजे जाने के पक्ष में उतर रहे हैं। बयानबाजी की शुरुआत मंत्री सज्जन सिंह वर्मा की मांग से हुई। इसके बाद सोमवार को पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव ने भी ट्वीट किया। लिखा कि इससे राज्यसभा में फांसीवादी विचारधारा के खिलाफ जमीनी संघर्ष की धार को और अधिक तीखा किया जा सकेगा। विधायक नीलांशु चतुर्वेदी ने भी प्रियंका को मध्य प्रदेश से राज्यसभा चुनाव में उतारे जाने की मांग की है। पीसीसी के महामंत्री महेंद्र सिंह चौहान ने कहा कि वे हाईकमान को पत्र लिखकर प्रियंका को यहां से राज्यसभा का टिकट दिए जाने की मांग करेंगे।

इनका कहना है

प्रियंका हमारी राष्ट्रीय नेता हैं, अगर हमारे राज्य से वे राज्यसभा में जाती हैं तो हमारे लिए यह सौभाग्य की बात होगी, लेकिन अब तक इस संबंध में हमारे पास कोई सूचना नहीं है। राज्यसभा भेजने का अधिकार हाईकमान को है। हाईकमान जिसको भी बोलेगा हम उसके साथ रहेंगे।

- मोहन मरकाम, अध्यक्ष प्रदेश कांग्रेस

Posted By: Hemant Upadhyay