रायपुर। Health: कोवैक्सीन को लेकरी केंद्र सरकार और छत्तीसगढ़ सरकार के बीच तकरार जारी है। कोवैक्सीन पर भ्रम और भय को दूर करने के लिए सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद कोवैक्सीन लगवाया, ताकि देश की जनता को यह भरोसा हो सके कि कोवैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित है। वहीं दूसरी तरफ छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव को कोवैक्सीन के सुरक्षित होने पर अब भी भरोसा नहीं है।

स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने नईदुनिया से चर्चा में कहा है कि प्रधानमंत्री ने तीसरे चरण के ट्रायल के बिना कोवैक्सीन लगवाया है। यह उनकी इच्छा है। सिंहदेव का कहना है कि जब तक कोवैक्सीन का तीसरे चरण का ट्रायल नहीं होता और जब तक उसकी रिपोर्ट नहीं आ जाती है, तब तक वे खुद कोवैक्सीन नहीं लगवाएंगे और न ही प्रदेश की जनता को यह टीका लगाकर उनकी जान को जोखिम में डाला जाएगा।

स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव का कहना है कि जब तक तीसरे चरण के ट्रायल की रिपोर्ट नहीं आ जाती है, तब तक प्रदेश सरकार कोवैक्सीन को रिलीज नहीं करेगी। जब राज्य सरकार कोवैक्सीन को रिलीज नहीं करेगी तो लोगों को यह टीका लग भी नहीं पाएगा। स्वास्थ्य मंत्री का कहना है कि यह प्रदेश के लोगों की सुरक्षा के लिए किया जा रहा है।

सिंहदेव ने नईदुनिया से चर्चा में कहा कि तीसरे चरण के ट्रायल के बिना, जिन लोगों को कोवैक्सीन लगवाना है, वे आवेदन दे सकते हैं कि वे ट्रायल का हिस्सा बन रहे हैं। कोवैक्सीन लगवाने पर कोई प्रतिकूल प्रभाव होता है, तो उसकी जिम्मेदारी टीका लगवाने और आवेदन देने वाले की होगी। सिंहदेव ने कहा कि हम तो शुरू से ही तीसरे चरण के ट्रायल के बिना कोवैक्सीन को लगाने के पक्ष में नहीं हैं।

Posted By: Azmat Ali

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags