Chhattisgarh News : रायपुर। कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए दुनिया भर के डॉक्टर, वैज्ञानिक और शोधकर्ता जुटे हैं। इसी कड़ी में पं. रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय के प्राध्यापकों ने एक मॉडल तैयार किया है, जिसका ट्रायल पूरा हो चुका है। दावा है कि इससे मोबाइल, फाइल, फल, सब्जियां आदि के वायरस, बैक्टीरिया, फंगस और कीटाणुओं को नष्ट किया जा सकता है। मल्टीपरपज यूवी डिसइन्फेक्शन चेंबर नाम के इस मॉडल से कोरोना वायरस के संक्रमण से बचा जा सकता है। विश्वविद्यालय अब इसे व्यवसायिक रूप में इस्तेमाल कर सकता है।

रविवि के भौतिकी एवं खगोल भौतिकी विभाग के विभागाध्यक्ष प्रो. डीपी बिसेन और प्राध्यापक प्रो. नमिता ब्रम्हें ने इस मॉडल को तैयार किया है। प्रो. नमिता ब्रम्हें बताती हैं कि अलट्रावॉयलेट प्रकाश कई तरह के होते हैं। इनमें से यूवी-ए और यूवी-बी सूर्य से आने वाली किरणों के साथ आते हैं, जबकि यूवी-सी मानव निर्मित उपकरणों से ही बनता है। वे कहती हैं कि इस चेम्बर में तीन यूवी लैंप लगाए गए हैं। इस यूवीसी लैंप में 253.7 नैनोमीटर एवं 185 नैनोमीटर की लाइट लगाई गई है, जो सीधे सरफेस पर बैक्टीरिया, वायरस इत्यादि को नष्ट करने में कारगर है।

यहां होता है इस तकनीक का उपयोग

भौतिकी एवं खगोल भौतिकी विभाग के विभागाध्यक्ष प्रो. डीपी बिसेन बताते हैं कि आमतौर पर इस तरह की तकनीक का उपयोग ऑपरेशन थियेटर, पानी और खाद्य प्रसंस्करण उद्योग द्वारा खाद्य पदार्थों इत्यादि को कीटाणुमुक्त करने के लिए किया जाता रहा है। इसी से आइडिया लेकर इसका निर्माण किया गया है।

दो मिनट में होगा सैनिटाइज

प्राध्यापकों के अनुसार मल्टीपरपज यूवी डिसइन्फेक्शन चेंबर का उपयोग ज्यादातर ऑफिस कार्यों में किया जा सकता है। इससे लेदर का समान, फाइल, मोबाइल आदि को महज दो मिनट में सैनिटाइज किया जा सकता है। इसे एक माह में प्राध्यापकों ने मिलकर तैयार किया है। वहीं इसे बनाने में कुल लागत छह हजार पांच सौ रुपये आई है।

कोरोना काल में यूवी-सी लाइट महत्वपूर्ण

कोरोना कील में यूवी-सी लाइट की भूमिका महत्वपूर्ण है। इससे कोरोना के संक्रमण को रोका जा सकता है। लक्ष्‌य टेक्नोक्रेट्स (इंडिया) प्रा. मिल ने शनिवार को पत्रकार वार्ता कर बताया कि यूवी-सी लैंप से विभिन्न तरह के अत्याधुनिक उपकरण तैयार हो रहे हैं, जिनकी कीमत बाजार में चार से 25 हजार रुपये तक है। इनका उपयोग मॉल, शोरूम, होटल की लॉबी, रेस्टोरेंट, हॉस्पिटल को सैनिटाइज करने के लिए किया जा रहा है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

Raksha Bandhan 2020
Raksha Bandhan 2020