रायपुर (राज्य ब्यूरो)। छत्तीसगढ़ के विधानसभा क्षेत्र के दौरे पर निकले मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने रामानुजगंज के राजपुर में आयोजित समीक्षा बैठक में अफसरों को जमकर हिदायत दी। मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि अधिकारी अपने-अपने काम में मुस्तैद रहें। एक लापरवाही गरीब परिवार के लिए भारी पड़ती है। मुख्यमंत्री ने कहा कि जनता के बीच यह संदेश नहीं जाना चाहिए कि मुख्यमंत्री और मंत्री के आने पर ही काम होता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि गरीबों के लिए छोटी-छोटी बातें काफी मायने रखती हैं।

  • अफसरशाही के रवैए पर छलका मंत्री टीएस सिंहदेव का दर्द
  • बोले-शिष्टाचार के नाते ही कलेक्टर और एसपी आ जाते मिलने

छत्‍तीसगढ़ राज्य सरकार की विकास की अवधारणा के केंद्र में सबसे गरीब व्यक्ति है। अधिकारी यह सुनिश्चित करें कि उन्हें शासन की योजनाओं का पूरा-पूरा लाभ मिले। दरअसल, मुख्यमंत्री दो दिन से सरगुजा के प्रवास पर हैं। इस दौरान उन्होंने राशनकार्ड नहीं बनाने की शिकायत पर सीएमओ और मुआवजा नहीं देने के मामले में जलसंसाधन विभाग के ईई को निलंबित कर दिया।

इस बीच, बस्तर प्रवास पर पहुंचे स्वास्थ्य एवं पंचायत मंत्री टीएस सिंहदेव ने कलेक्टर और एसपी के मुलाकात नहीं करने के मामले ने सियासी रंग ले लिया है। जगदलपुर में मंत्री टीएस सिंहदेव का दर्द उस समय छलक गया, जब उनसे कलेक्टर और एसपी मिलने नहीं पहुंचे। मीडिया ने जब सिंहदेव से सवाल किया कि प्रशासनिक अधिकारी उनके दौरे में नदारद है, तो उन्होंने कहा कि प्रशासनिक अधिकारी तो नहीं, लेकिन यह देखने में आया कि कलेक्टर और एसपी कहीं पर भी शिष्टाचार में नहीं आए।

दंतेवाड़ा में भी नहीं आए, जगदलपुर में भी नहीं आए। वह उम्र में भी मेरे से छोटे हैं। मेरे बच्चे होते तो इन्हीं की उम्र के होते। एक सामान्य बात है कि शिष्टाचार रखना चाहिए। प्रोटोकाल में कोई बड़ा आया है, तो उससे मिलना चाहिए। इससे कोई छोटा-बड़ा नहीं हो सकता है। समाज और व्यवस्था में जो शिष्टाचार है, उसका पालन करना चाहिए। सिंहदेव के इस बयान के बाद भाजपा को भी सरकार को घेरने का मौका मिल गया।

सीएम के इशारे पर हो रहा सिंहदेव का अपमान: भाजपा

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के इशारे पर मंत्री सिंहदेव का अपमान हो रहा है। साय ने सलाह दी कि बेहतर होगा सिंहदेव मंत्री पद छोड़कर अपना सम्मान बचाएं। सिंहदेव को हेलिकाप्टर उपलब्ध कराने में भी सरकार ने भेदभाव किया।

इससे साफ है कि अन्य मंत्रियों की तुलना में सिंहदेव के साथ सौतेला व्यवहार किया जा रहा है। ऐसा पहली बार नहीं हो रहा है। इससे पहले सिंहदेव का एक विधायक ने अपमान किया, जिसके कारण वह विधानसभा की कार्यवाही छोड़कर चले गए थे।

सभी मंत्रियों के साथ नहीं रह सकते कलेक्टर-एसपी: भूपेश

मंत्री टीएस सिंहदेव के बयान के बाद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से राजपुर में मीडिया से चर्चा में कहा कि सभी मंत्रियों के साथ कलेक्टर और एसपी नहीं रह सकते। जिस जिले में वहां के प्रभारी मंत्री दौरा करते हैं, उनके साथ कलेक्टर, एसपी मौजूद रहते हैं।

स्वास्थ्य मंत्री सिंहदेव के प्रभार वाले जिले के कलेक्टर, एसपी यदि उनके साथ नहीं रहेंगे, तो मैं जरूर कार्रवाई करुंगा। मध्य प्रदेश के जमाने में भी हम लोग मंत्री थे, तब हमारे साथ कलेक्टर, एसपी नहीं रहते थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि अधिकारियों की कार्यकुशलता, व्यवहार और लोगों के साथ संपर्क से शासन की छवि बनती और बिगड़ती है।

Posted By: Kadir Khan

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close