रायपुर (राज्य ब्यूरो)। सार्वजनिक वितरण प्रणाली (पीडीएस) के अंतर्गत पात्र राशन कार्डधारियों को माह अप्रैल और मई का राशन एक साथ प्रदान किया जाएगा। खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग ने प्रदेश के सभी कलेक्टरों को पत्र जारी कर दिया है।

पत्र में कहा गया है कि खरीफ विपणन वर्ष 2022-23 में कस्टम मिलिंग के बाद चावल उपार्जन के लिए गोदामों में पर्याप्त स्थान की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए राज्य शासन ने पीडीएस एवं सार्वभौम पीडीएस के तहत प्रचलित सभी राशनकार्ड धारियों को माह अप्रैल और मई का चावल एक साथ वितरण करने का निर्णय लिया है।

खाद्य विभाग ने जारी पत्र में कहा है कि राशनकार्डधारियों को माह अप्रैल और मई का राशन वितरण किए जाने हेतु खाद्यान्न् का भंडारण उचित मूल्य दुकानों में समय पर किया जाए तथा अन्न् वितरण पोर्टल में इस संबंध में माहवार वितरण दर्शाने के लिए आवश्यक व्यवस्था किया जाए।

भंडारित खाद्यान्न् की निगरानी समिति तथा खाद्य अधिकारियों के माध्यम से पुष्टि कराया जाए। पत्र में यह भी कहा गया है कि दो माह के चावल वितरण संबंधी सूचना राशन कार्डधारियों को मुनादी और उचित मूल्य की दुकानों पर पोस्टर एवं बैनर प्रदर्शित कर की जाए। चावल को छोड़कर शेष राशन सामग्री जैसे नमक, श-र, कैरोसीन और चना आदि माहवार पात्रतानुसार वितरण करने को कहा गया है।


किसानों से इस खरीफ सीजन में 107.53 लाख मीट्रिक टन धान की खरीदी

अब तक कस्टम मिलिंग के लिए 105.55 लाख मीट्रिक टन धान का उठाव हो चुका है, जबकि 107.53 लाख मीट्रिक टन धान के उठाव के लिए डीओ जारी कर दिया गया है। इस वर्ष किसानों से समर्थन मूल्य पर 107.53 लाख मीट्रिक टन धान की खरीदी की गई है। पिछले वर्ष की तर्ज पर इस वर्ष भी धान खरीदी के साथ-साथ कस्टम मिलिंग के लिए सीधे उपार्जन केंद्रों से धान का उठाव शुरू किया गया था, जिसके चलते राज्य सरकार को परिवहन व्यय में काफी कमी आई है।

इसके साथ ही धान खरीदी के बाद धान उठाव की लंबी प्रक्रिया से भी निजात मिली है। राज्य सरकार ने इस वर्ष 23 लाख 42 हजार से अधिक किसानों से 31 जनवरी 2023 तक 107.53 लाख मीट्रिक टन धान की खरीदी की है। किसानों को धान खरीदी के एवज में 22 हजार 67 करोड़ रूपए का भुगतान किया गया है।

Posted By: Pramod Sahu

छत्तीसगढ़
छत्तीसगढ़
 
google News
google News