रायपुर। त्योहारी सीजन को देखते हुए राज्य की भूपेश बघेल सरकार ने प्रदेश के छोटे फुटकर व्यापारियों को बड़ी राहत दी है। छत्‍तीसगढ़ सरकार ने सभी नगरीय निकायों को ऐसे व्यापारियों से किसी भी प्रकार का शुल्क नहीं लेने का निर्देश दिया है। सरकार के इस फैसले पर प्रतिक्रिया देते हुए व्‍यापारियों ने कहा है कि इससे छोटे फुटकर व्‍यापारियों को बड़ी राहत मिलेगी और त्‍योहार के दौरान उन्‍हें काम करने में आसानी होगी।

नगरीय प्रशासन विभाग से सभी निकायों को आदेश किए जारी

नगरीय प्रशासन विभाग से सभी निकायों को जारी आदेश में ऐसे फुटकर व्यापारी जो अपना उत्पाद लगाकर बेचते हैं उनसे किसी प्रकार का शुल्क नहीं लेने को कहा है।

इस वर्ग को मिलेगी फैसले से राहत

राज्‍य की भूपेश बघेल सरकार ने यह फैसला घरेलू विशेष रूप से पुश्तैनी व्यवसाय करने वाले कुम्हार, बुनकर और सब्जी विक्रेता समेत इस तरह के अन्य को बढ़ावा देने के लिए लिया है।

बंदोबस्त त्रुटि ठीक करने सरगुजा के तीन गांवों का राजस्व सर्वे


सरकार ने सरगुजा जिले के तीन गांवों का राजस्व सर्वे करने का निर्देश दिया है। राजस्व विभाग से जारी आदेश के अनुसार जिन तीन गांवों का सर्वे कराया जाएगा उनमें बढ़नी झरिया, खैरबार और मंगरेलगढ़ शामिल हैं।

मंगरेलगढ़ सीतापुर तहसील और बाकी अंबिकापुर तहसील के गांव शामिल

इनमें मंगरेलगढ़ सीतापुर तहसील और बाकी अंबिकापुर तहसील के गांव हैं। अफसरों ने बताया कि इन तीनों गांवों में की बंदोबस्त में 10 फीसद से अधिक की त्रुटि पाई गई है। इसी वजह से नियमानुसार फिर से राजस्व सर्वे करने का निर्देश दिया गया है।

Posted By: Hemant Upadhyay