रायपुर। Chhattisgarh: अब खुले नेटवर्क में डिजिटल कामर्स को अपनाने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। इसमें खास बात यह है कि इसके लिए बनी स्टीयरिंग कमेटी में कैट के महामंत्री प्रवीण खंडेलवाल को सदस्य बनाया गया है। कैट के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अमर पारवानी ने बताया कि देश के ई कामर्स को फिर से परिभाषित करने के लिए और भारत में डिजिटल कामर्स के लिए खुला नेटवर्क बनाने की प्रक्रिया शुरू हो गई है।

सरकार द्वारा की जाने वाली यह बहुत ही अच्छी पहल है। ई कामर्स कंपनियों द्वारा किए जा रहे गड़बडिय़ों के कारण ही ऐसा किया गया है। कैट ने कई दफे इसकी शिकायत भी की है। लंब समय से इसका इंतजार किया जा रहा था। उन्होंने बताया कि डीपीआइआइटी ने खुले नेटवर्क डिजिटल कॉमर्स के निर्माण, कार्यान्वयन और नीतिगत विषयों के लिए एक स्टीयरिंग कमेटी का गठन किया है।

यह कमेटी संगठनों के बीच आम सहमति बनाएगी। इस कमेटी में अध्यक्ष डीपीआइआइटी के संयुक्त सचिव होंगे और कैट के महामंत्री प्रवीण खंडेलवाल को इसमें सदस्य बनाया गया है। इसमें जैम, इलेक्ट्रानिक्स एवं टेक्नोलाजी मंत्रालय, एमएसएमइ मंत्रालय और नीति आयोग के प्रतिनिधि भी होंगे।

पारवानी ने कहा कि कैट के नेतृत्व में भारत के व्यापारी हमेशा एक तटस्थ ई कामर्स प्लेटफार्म की वकालत करते रहे हैं जिसके जरिये सभी को आनलाइन मार्केट पर माल बेचने के समान अवसर मिलें। व्यापारी किसी भी प्रतिस्पर्धा से नहीं डरते हैं, लेकिन ई कामर्स कंपनियों द्वारा एफडीआइ नियमों का उल्लंघन किया जाता रहा है। इससे नुकसान ही हो रहा है।

Posted By: Himanshu Sharma

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस