रायपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। रिटायरमेंट के बाद संविदा नियुक्ति नहीं मिलने पर शीर्ष अधिकारियों को फंसाने के लिए फर्जीवाड़ा करने वाले रायपुर के पूर्व जिला शिक्षा अधिकारी (डीईओ) गेंदाराम चंद्राकर सहित तीन लोगों को शुक्रवार देर रात गिरफ्तार कर लिया गया। शनिवार को न्यायलय में पेश कर उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। इन्होंने शिक्षा मंत्री डा. प्रेम साय सिंह टेकाम, शिक्षा आयुक्त जितेंद्र शुक्ला सहित शीर्ष अधिकारियों के खिलाफ एक फर्जी डायरी इंटरनेट मीडिया पर वायरल कराया था।

स्कूल शिक्षा विभाग के उप संचालक आशुतोष चाबरे के फर्जी हस्ताक्षर से जारी डायरी में 366 करोड़ रुपये के भ्रष्टाचार के आरोप लगाए गए थे। जनवरी 2021 में नईदुनिया में खबर प्रकाशित होने के बाद शिक्षा मंत्री ने स्वयं संविदा नियुक्ति रोकते हुए जांच कराई तो शिक्षा का अधिकार कानून (आरटीई) के तहत गरीब बच्चों के लिए जारी 76 लाख रुपये गबन का मामला सामने आया था। उसकी वजह से चंद्राकर की संविदा नियुक्ति रोक दी गई थी।

एसएसपी प्रशांत अग्रवाल ने शनिवार को प्रेस कांफ्रेंस में बताया कि चंद्राकर ने स्वीकार कर लिया है कि संविदा नियुक्ति नहीं मिल पाने के कारण ही उसने यह साजिश रची थी। उसकी पेंशन भी रुक गई है इसलिए सभी से बदला लेना चहता था। रायपुर होम्योपैथिक मेडिकल कालेज एवं अस्पताल, रामकुंड के सचिव संजय सिंह ठाकुर और कंप्यूटर आपरेटर कपिल कुमार देवदास को साजिश में भागीदारी के कारण गिरफ्तार किया गया है। एक दिन पहले ही स्कूल शिक्षा मंत्री डा. टेकाम ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को ज्ञापन सौंपकर इस मामले में तुरंत कार्रवाई की मांग की थी।

आरोपितों में पूर्व जिला शिक्षा अधिकारी वर्तमान सेवानिवृत्त गेंदाराम चंद्राकर पुत्र स्व. अर्जुन लाल चंद्राकर (64) निवासी ग्राम भड़हा थाना खरोरा, वर्तमान निवासी दानी स्‍कूल कैंपस कालीबाड़ी चैक थाना कोतवाली रायपुर, रायपुर होम्योपैथिक मेडिकल कालेज एवं हास्पिटल रामकुण्ड का सचिव संजय सिंह ठाकुर पुत्र स्‍व. नरेन्द्र बहादुर सिंह (51) निवासी सी/79 देवेन्द्र नगर सेक्टर 04 थाना देवेन्द्र नगर रायपुर और रायपुर होम्योपैथिक मेडिकल कालेज व हास्पिटल रामकुण्ड में टायपिस्ट कपिल कुमार देवदास पुत्र कृष्णा देवदास (30) निवासी गायत्री मंदिर के पास टाटीबंध थाना आमानाका रायपुर शामिल हैं।

शिक्षा मंत्री ने सीएम को सौंपा ज्ञापन, कथित डायरी मामले की उच्चस्तरीय जांच की मांग

स्कूल शिक्षा मंत्री डा. प्रेमसाय सिंह टेकाम ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री निवास कार्यालय में सीएम भूपेश बघेल से मुलाकात की। इस दौरान डा. टेकाम ने शिक्षा विभाग से कथित भ्रष्टाचार को लेकर वायरल हो रही खबरों को संज्ञान में लेते हुए पूरे मामले की उच्चस्तरीय जांच कराने की मांग की थी।

Posted By: Kadir Khan

NaiDunia Local
NaiDunia Local