रायपुर ( राज्य ब्यूरो)। कोरोना के चलते पिछले तीन साल से मुख्यमंत्री कन्या विवाह कराने में विभाग पिछड़ता जा रहा है। सामूहिक विवाह कराने को विभाग के पास 19 करोड़ रुपये का बजट है। तय समय पर विवाह नहीं हो पाने से हर साल राश्ाि लेप्स हो रही है। इस चुनौती से निपटने के लिए महिला एवं बाल विकास विभाग ने इस साल से छह-छह महीने का दो वित्तीय सत्र निर्धारित कर दिया है। इसके लिए सात हजार 600 विवाह कराने का लक्ष्य है। मुख्यमंत्री सामूहिक कन्या विवाह योजना के अधूरे लक्ष्य को पूरा करने के लिए अगले छह महीने में तीन हजार 40 विवाह कराने का लक्ष्य रखा गया है।

बलरामपुर में सबसे ज्यादा 200 विवाह का लक्ष्य

सबसे अधिक बलरामपुर को 200 विवाह कराने का लक्ष्य दिया गया है। इसी तरह बालोद को 100, बलौदाबाजार 175, बस्तर 15, बेमेतरा 50, बीजापुर 150, बिलासपुर 80, दंतेवाड़ा 150, धमतरी 50, दुर्ग 100, गरियाबंद 100, जांजगीर 50, जशपुर 100, कांकेर 150, कवर्धा 120, कोंडागांव 175, कोरबा 50, कोरिया 100, महासमुंद 100, मुंगेली 50, नारायणपुर 100, रायगढ़ 175, रायपुर 125, राजनांदगांव 75, सरगुजा 100, सुकमा 100, सूरजपुर 100 और गौरेला पेंड्रा मरवाही को 65 विवाह कराने का लक्ष्य दिया गया है।

पिछले सालों में मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना के लिए लक्ष्य

वित्तीय सत्र राशि करोड़ में व्यय राशि लक्ष्य लाभान्वित

2019- 20 19.00 10.03 7,600 2,948

2020-21 19.00 16.30 7,600 6,433

2021-22 19.00 14.32 7,600 4,469

यह है मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना

छत्तीसगढ़ सरकार आर्थिक रूप से कमजोर परिवार के कन्या विवाह पर 25 हजार रुपये की आर्थिक मदद करती है। इस योजना का लाभ उठाने के लिए कन्या की आयु 18 वर्ष या फिर 18 वर्ष से ज्यादा होनी चाहिए। इसके अलावा इस योजना का लाभ एक परिवार की दो कन्याएं ही उठा सकती हैं। मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना के अंतर्गत विधवा, अनाथ और निराश्रित कन्याओं को भी शामिल किया गया है।

विवाह के लिए यह है आवेदन की प्रक्रिया

विवाह के लिए आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, पर्यवक्षेक,बाल विकास परियोजना अधिकारी, जिला कार्यक्रम अधिकारी या फिर जिला महिला एवं बाल विकास अधिकारी के पास आवेदन करना होगा। आवेदन पत्र में नाम, मोबाइल नंबर, ईमेल आइडी दर्ज करनी होगी।

लक्ष्य निर्धारित

वित्तीय वर्ष को दो भागो में बांटकर इस बार मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना को पूरा करने के लिए लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

- दिव्या उमेश मिश्रा, संचालक, महिला एवं बाल विकास

Posted By: Sanjay Srivastava

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close