रायपुर । Lockdown in Chhattisgarh :कोरोना के चलते लॉकडाउन के कारण आयकर रिटर्न सहित दूसरे कई करों के भुगतान को 30 जून तक टाल दिया गया है, ऐसे समय में छत्तीसगढ़ जीएसटी कलेक्शन के मामले में काफी अच्छी स्थिति में है। अपना प्रदेश पंजाब, बिहार, उतराखंड, झारखंड जैसे राज्यों से आगे निकल गया है। मार्च में छत्तीसगढ़ ने 2093 करोड़ का जीएसटी कलेक्शन किया। यह कलेक्शन लक्ष्य से सिर्फ दो फीसद कम है। छत्तीसगढ़ से केंद्रीय जीएसटी भी 880 करोड़ पहुंच गई है। हालांकि यह अपने लक्ष्य 900 करोड़ पीछे है, लेकिन पिछले साल के कलेक्शन की अपेक्षा 10 फीसद अधिक है।

विभागीय अधिकारियों से मिली जानकारी के अनुसार मार्च में सर्वाधिक जीएसटी कलेक्शन महाराष्ट्र में 15002 करोड़, इसके बाद कर्नाटक में 7144 करोड़ और गुजरात 6820 करोड़ रुपये हुआ।

जीएसटी ने दो साल में प्रदेश को दिए हैं 13713 करोड़ से अधिक टैक्स-

जीएसटी में होने वाली असुविधा को लेकर भले ही समय-समय पर राजनीतिक पार्टियां आवाज उठाती रही हैं, लेकिन पिछले दो सालों में छत्तीसगढ़ को जीएसटी से होने वाली आय इसके उलट कहानी बयां कर रही है। इन दो सालों में आय में बढ़ोतरी हुई है। जीएसटी 1 जुलाई 2017 से लागू है, पहले साल की अपेक्षा दूसरे साल में छत्तीसगढ़ से केंद्र को जीएसटी में करीब 90 फीसद अधिक आय हुई है।

विभाग से मिली जानकारी के अनुसार वर्ष 2017-18 में सीजीएसटी 4763.87 करोड़ थी, जो वित्तीय वर्ष 2018-19 में बढ़कर 8950 करोड़ हो गई। इस प्रकार दो सालों में सीजीएसटी के रूप में 13717.87 करोड़ की आय हुई है। सुप्रीन्टेंडेंट सेंट्रल जीएसटी एम. राजीव ने बताया कि इस प्रकार साल दर साल जीएसटी में बढ़ोतरी हो रही है। कारोबारियों के लिए यह बहुत ही ज्यादा फायदेमंद साबित हो रहा है।

यह हुआ है फायदा-

1. विभागीय अधिकारियों के अनुसार जीएसटी के चलते अब पूरे देश में एक ही बाजार हो गया है और एक ही टैक्स देना पड़ता है। जीएसटी ने व्यापार को लेकर राज्यों की बाउंड्री खत्म कर दी है।

2. कहीं से कहीं माल जाने पर क्रेडिट सुविधा मिलती है, इससे काफी फायदा हो रहा है।

3. 40 लाख तक टर्नओवर वाले व्यापारियों को इसमें राहत दी गई है।

काफी अच्छा रहा कलेक्शन

मार्च का कलेक्शन काफी अच्छा रहा है और केंद्रीय जीएसटी के रूप में करीब 880 करोड़ रुपये मिले हैं। हालांकि अप्रैल में कलेक्शन में थोड़ा फर्क पड़ने के संकेत हैं। - बीबी महापात्र, प्रधान आयुक्त, केंद्रीय जीएसटी एवं उत्पाद शुल्क

सॉफ्टवेयर मजबूत करना होगा

- जीएसटी काफी फायदेमंद और सरल प्रक्रिया है। यह कारोबारियों के साथ ही सरकार की आय बढ़ाने वाली है। सबसे बड़ी बात तो यह है कि जीएसटी के आने के बाद से बहुत से गलत कार्यों पर रोक लग गई है। जीएसटी के प्रति थोड़ी जागरूकता और बढ़ानी होगी। इसके लिए जीएसटी सॉफ्टवेयर को मजबूत करने की आवश्यकता है।- चेतन तारवानी, सीए

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना