रायपुर। तकनीकी शिक्षा संचालनालय (डीटीई) ने प्री इंजीनियरिंग टेस्ट (पीईटी) काउंसिलिंग के तीन चरण की प्रक्रिया पूरी कर ली है। काउंसिलिंग की प्रक्रिया पूरे होने के साथ ही इंजीनियरिंग कॉलेजों के सामने सीटों को भरने की चुनौती खड़ी हो गई है। इस सत्र में सभी इंजीनियरिंग कॉलेजों की सीट में से केवल 28 प्रतिशत सीटें ही भर पाई हैं। यह आंकड़ा पिछले वर्ष से दो प्रतिशत कम है।

तीन चरणों में हुई काउंसिलिंग के दो राउंड में 2766 छात्रों ने प्रवेश लिया। वहीं अंतिम राउंड में 1098 सीटों पर आबंटन किया गया। इसमें केवल पांच सौ सीटें पर ही प्रवेश होगा। बची हुई 9603 सीटों पर अब सीधे प्रवेश देने की तैयारी की जा रही है।

पत्नी ने कराई मर्चेंट नेवी इंजीनियर पति की हत्या, तीन गिरफ्तार

गौरतलब है कि अब तननीकी शिक्षा संचालनालय अगस्त से ओपन कांउसिलिंग करने की तैयारी शुरू करने वाला है। इसमें छात्र सीधे ऑनलाइन कॉलेज का चयन कर प्रवेश ले सकते हैं। कांउसिलिंग के लिए अगस्त के पहले सप्ताह से दूसरे सप्ताह तक की तिथि निर्धारित की गई है।

नवविवाहिता से दुष्कर्म, फिर शादी का झांसा देकर कराया तलाक, प्रेग्नेंट होने पर छोड़ा

यह कहती है सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइन

सुप्रीम कोर्ट की गाइड लाइन के अनुसार 15 अगस्त के भीतर ही देशभर के इंजीनियरिंग कॉलेजों को प्रवेश पूरी करना है।

20 कॉलेज जहां 15 प्रतिशत भी नहीं हुआ प्रवेश

इंजीनियरिंग के 20 कॉलेज ऐसे हैं जहां 15 फीसद भी प्रवेश नहीं हुआ है। वहीं चार कॉलेजों में शत-प्रतिशत प्रवेश हुआ है। बाकी कॉलेजों में 20 प्रतिशत के नीचे ही प्रवेश लिया है।

Korba Murder : हत्या के बाद निर्वस्त्र अवस्था में महिला की लाश दफनाई