रायपुर । Raipur News: छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष डॉ. किरणमयी नायक ने बुधवार को विभिन्न् जिलों की महिलाओं द्वारा दिए गए आवेदनों की आयोग कक्ष रायपुर में सुनवाई की। प्रस्तुत प्रकरण में शारीरिक शोषण, मानसिक प्रताड़ना, दहेज प्रताड़ना, संपत्ति विवाद आदि से संबंधित थे।

प्रकरण सुनवाई के दौरान कार्यस्थल पर वरिष्ठ अधिकारी द्वारा प्रताड़ित करने संबंधी आवेदन की सुनवाई करते हुए आयोग के अध्यक्ष ने जांच के लिए अन्वेषण समिति गठित कर दो माह के भीतर प्रतिवेदन प्रस्तुत करने कहा। उक्त प्रकरण में आवेदिका द्वारा प्रस्तुत आवेदन में कार्यस्थल पर जानबूझकर परेशान करने, कार्यदिवस तथा अवकाश के दिनों में भी काम करने के बाद भी वेतन में कटौती, कार्यस्थल में कार्यरत अन्य डॉक्टरों को अवकाश और भेदभाव करने संबंधी शिकायतों पर गठित समिति जांच करेगी।

पति करता था अप्राकृतिक कृत्य, अपराध दर्ज

जिला कांकेर निवासी आवेदिका द्वारा ससुराल पक्ष पर दहेज प्रताड़ना, मारपीट करने, जान से मारने की धमकी व पति द्वारा अप्राकृतिक कृत्य करने संबंधी आवेदन की सुनवाई की। इस प्रकरण में उपस्थित पति के ऊपर शून्य पर अपराध दर्ज कर तत्काल तेलीबांधा पुलिस को कार्रवाई करने के निर्देश दिए। वहीं सास, ससुर और देवर के ऊपर भी अपराधिक प्रकरण दर्ज करने के निर्देश दिए। जिसे चारामा थाना को भेज कर 498 (ए), 377 व अन्य अपराध दर्ज करने कहा गया। संपत्ति विवाद के एक अन्य प्रकरण में अनावेदक की अनुपस्थिति पर आयोग अध्यक्ष ने गंभीर नाराजगी व्यक्त की। उन्होंने कहा कि इस तरह आयोग के नोटिस को गंभीरता से नहीं लेना, न्याय प्रक्रिया को बाधित करता है। अगली सुनवाई में अनावेदक को पुलिस अभिरक्षा में आयोग के समक्ष प्रस्तुत करने के निर्देश दिए।

Posted By: kunal.mishra

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस