रायपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। रायपुर से सटे बलौदाबाजार के पशुपालकों में इस समय पशुओं में एक वायरल डिजीज को लेकर परेशानी बढ़ गई है। इस रोग के कारण पशु खाना नहीं खा रहे हैं। साथ ही उन्हें उठने-बैठने में काफी दिक्क्तों का सामना करना पड़ रहा है। वहीं पशुचिकित्सकों द्वारा लिखी दवाई का भी कोई असर मवेशियों पर नहीं है। इससे पशुपालकों कुछ भी समझ में नहीं आ रहा है, वे इस वायरल डिजीज के उपचार के लिए कहां जाएं? ज्ञात हो कि बलौदाबाजार समेत भिलाई विकासखंड में पिछले कुछ दिनों से लगभग 6 से 8 मवेशियों के दाएं पैर में सूजन आने की शिकायत आई है। एकाएक आई इस सूजन की वजह का पता लगाने के लिए पशुधन विभाग सेवाएं, राज्य पशुचिकित्सा लैब की टीम मौके पर पहुंच कर मवेशियों के खून, गोबर, यूरिन की जांच के सैंपल लेने में जुट गई है। विभाग के पशुचिकित्सक रोग का पता लगाने में जुट गए हैं। वहीं कुछ विभागीय पशु डॉक्टरों का कहना है जिस प्रकार से मवेशियों में लक्षण दिख रहे, उससे उक्त बीमारी का नाम लंफी स्किन डिजीज हो सकता है। इसकी कोई दवा उपलब्ध नहीं है।

प्रकार का वायरल डिजीज

आसपास के किसानों ने बताया कि उक्त बीमारी में पशुओं के पैर में सूजन आ गया है। इसके कारण वह खाना बंद कर दिए है। उठने व चलने में भी उन्हें काफी दिक्कतें हैं। यह बीमारी गाय, बैल-बछड़े के दाहिने पैर में एकाएक तेजी से फैल गई है। वहीं महामारी का रूप ले चुकी इस बीमारी का नाम किसानों को तो पता नहीं है। स्थानीय पशु चिकित्सकों का कहना है यह एक प्रकार का वायरल डिजीज है।

संक्रमित जानवरों को अलग बांधें

किसानों को सलाह दी है कि इस संक्रामक रोग से बचाने के लिए पशुओं को पीड़ित पशुओं से अलग स्थान पर बांधें। जिस प्रकार से लक्षण दिख रहे हैं, उससे यह तेजी से फैलने वाला एक संक्रामक रोग हो सकता है। इस बीमारी में पशु का खाना बंद नहीं होता, लेकिन कम हो जाता है। संक्रमित जानवरों के पूरे शरीर में दाना-दाना निकल आता है। पैर में सूजन की शिकायत आती है।

अन्य राज्यों में मिले लक्षण

पैर में सूजन की शिकायत प्रदेश में जरूर पहली बार सामने आया है, लेकिन इस रोग को लेकर उडीसा, झारखंड से सटे सीमावर्ती क्षेत्रों में यह बीमारी तेजी से फैलने की शिकायत मिल चुकी है। झारखंड में यह बीमारी महामारी का रूप ले चुकी है। इसलिए उक्त बीमारी की चपेट में आने वाले जानवरों के शरीर के उस हिस्से को नीम के पत्ते से धोएं अथवा कोनी का तेल लगाएं। जहां दाना-दाना निकल आया है। सूजन वाली जगह में भी यह उपचार कारगर है। तुरंत पशुपालक पशु औषधालय आकर डॉक्टरी सलाह भी ले सकते हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

Ram Mandir Bhumi Pujan
Ram Mandir Bhumi Pujan