रायपुर। छत्तीसगढ़ के दंडकारण्य वाले उन अंचलों का विकास होगा, जहां-जहां भगवान राम के पद पड़े थे। राम वनगमन पथ क्षेत्रों के विकास के लिए कांग्रेस सरकार अलग से नीति बनाएगी।

संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत ने विभागीय सचिव को प्रस्ताव बनाने के लिए कहा है। प्रस्ताव को कैबिनेट में रखा जाएगा। मंत्री भगत ने कहा कि छत्तीसगढ़ में पर्यटन के बहुत से स्थल हैं। कांग्रेस सरकार पर्यटन स्थलों को विकसित करने और पर्यटकों को बढ़ाने की योजना पर काम कर रही है।

भगत ने कहा कि यह छत्तीसगढ़वासियों के लिए गौरव की बात है कि यहां के दंडकारण्य क्षेत्र से भगवान राम का गमन हुआ था। यह क्षेत्र चर्चित और लोकप्रिय हो सकता है। लोग आस्था से जुड़कर भी इस क्षेत्र में घुमने आ सकते हैं। भगत ने बताया कि उन्होंने राम वनगमन पथ का नक्शा तैयार कर उसे विकसित करने के लिए प्रस्ताव बनाने का निर्देश दे दिया है। उस पर काम चल रहा है।

नक्सलवाद चुनौती होगी

दंडकारण्य क्षेत्र नक्सलवाद प्रभावित है, इस कारण योजना पर काम करना सरकार के लिए चुनौतीपूर्ण रहेगा। राम वनगमन पथ अंचलों को विकसित कर लिया जाएगा, तब भी पर्यटकों के आने का माहौल बनाना होगा। यह भी सरकार के लिए चुनौती रहेगी।