रायपुर, राज्य ब्यूरो। Chhattisgarh Politics: भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने कहा कि विधानसभा चुनाव के समय जारी कांग्रेस का जन घोषणापत्र अब झूठ का पुलिंदा साबित होता जा रहा है। इस वर्ष 14 मार्च को विधानसभा में जब मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि हमने 36 में से 14 वादे पूरे कर दिए हैं, बाकी बचे 22 वादों की समय सीमा नहीं बता सकते थे। तब शायद वे यह समझाने का प्रयत्न कर रहे थे कि बाकी बचे 22 वादे हम पूरे नहीं करेंगे। कांग्रेस ने अपने जन घोषणापत्र में संविदा, अनियमित, दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों से वादा किया था कि रिक्त पदों पर इनकी नियुक्ति की जाएगी और किसी भी हालत में इनकी छटनी नहीं की जाएगी।

जन घोषणा पत्र में किए वादे के उलट अब बहाने बनाकर भूपेश सरकार कह रही है कि 1998 के बाद रखे गए दैनिक वेतन भोगी कर्मचारी नियमितीकरण के पात्र नहीं होंगे। साय ने आरोप लगाया कि भूपेश सरकार विभिन्न सरकारी कर्मचारियों से धोखाधड़ी कर रही है। सबसे पहले उन्होंने पर्यटन एवं संस्कृति विभाग में कार्यरत दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों को कार्य से मुक्त किया।

कोरोना में अपनी जान जोखिम में डाल कर 15-15 घंटे कार्य करने वाले राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के 13 हजार संविदा कर्मचारी इनके धोखे के शिकार हैं। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, जिला अस्पताल में हजारों कर्मी नियमितीकरण की बाट जोह रहे हैं। प्रदेश में अंशकालीन स्कूल सफाई कर्मचारियों को मात्र दो हजार वेतन दिया जा रहा है। लगभग 47 हजार सफाई कर्मचारियों में अधिकांश अनुसूचित जाति वर्ग से हैं। जो केवल अंशकालिक से पूर्णकालिक कर्मचारी बनाए जाने की मांग कर रहे हैं, ताकि उनका वेतन 10 हजार हो सके।

Posted By: Shashank.bajpai

NaiDunia Local
NaiDunia Local