रायपुर। Congress Training : गांधीधाम वर्धा में कांग्रेस पदाधिकारियों को बुधवार को गोशाला मैनेजमेंट का पाठ पढ़ाया गया। इसमें गाय को बचाने, उसके गोबर और मूत्र के इस्तेमाल और गाय की भारत की अर्थव्यवस्था में योगदान के बारे में जानकारी दी गई।

चार दिवसीय प्रशिक्षण शिविर के तीसरे दिन कांग्रेस पदाधिकारियों ने सुबह गोशाला में श्रमदान किया। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम सहित अन्य पदाधिकारियों ने गोशाला को साफ किया, पशुओं को चारा डाला और गोबर को एकत्र किया। इसके बाद गोशाला मैनेजमेंट की क्लास शुरू हुई। करीब दो घंटे में गाय, गोबर और गांव के बारे में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के विचार बताए गए और पदाधिकारियों को इन विचारों को लेकर आगे बढ़ने की सीख दी गई।

मोहन मरकाम ने कहा कि महात्मा गांधी कहते थे कि गाय करुणा का काव्य है। यह सौम्य पशु मूर्तिवान करुणा है। यह करोड़ों भारतीयों की मां है। गाय के माध्यम से मनुष्य समस्त जीव जगत से अपना तारतम्य स्थापित करता है। दूसरे सत्र में छत्तीसगढ़ के कृषि मंत्री रविंद्र चौबे ने भी पदाधिकारियों को प्रदेश में चल रहे नरवा, गस्र्वा के बारे में विस्तार से जानकारी दी।

उन्होंने बताया कि प्रदेश में गोबर की खरीदी की जा रही है। प्रदेश को जैविक राज्य बनाने की दिशा में सरकार काम कर रही है। इसके लिए गोबर से वर्मी कंपोस्ट बनाया जा रहा है। गोठान में गोबर के इस्तेमाल और किसानों की आर्थिक स्थिति के बारे में भी जानकारी दी।

आज मुख्यमंत्री बघेल भी होंगे शामिल

प्रशिक्षण सत्र के चौथे दिन मुख्यमंत्री भूपेश बघेल भी शामिल होंगे। बघेल प्रदेश सरकार की योजनाओं के बारे में जानकारी देंगे। इसके साथ ही किसानों, गांव और गरीबों के लिए सरकार की ओर से किए गए उपायों पर विस्तार से जानकारी देंगे। दोपहर दो बजे प्रशिक्षण सत्र समाप्त हो जाएगा और सभी पदाधिकारी लौट आएंगे।

Posted By: Kadir Khan

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस