रायपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। संविधान दिवस के अवसर पर शुक्रवार को राज्य के सभी स्कूल-कालेज में संविधान दिवस मनाया गया। इस अवसर पर संविधान की प्रस्तावना का पाठ सुबह 11 बजे किया गया। इसके अलावा संवैधानिक मूल्यों पर चर्चा गोष्ठी, भाषण, प्रतियोगिताएं आदि गतिविधियां हुई। स्कूल शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव डा. आलोक शुक्ला और सचिव डा. कमलप्रीत सिंह ने सभी जिला शिक्षा अधिकारियों को निर्देश जारी किया था।

राजधानी रायपुर के अलावा छत्तीसगढ़ के सभी जिलों में संविधान दिवस पर प्रस्तावना का वाचन स्कूलों, कालेजों में किया गया। रायपुर के पंडित सखाराम दुबे प्राइमरी स्कूल के बच्चे शिक्षिका ममता आहार के साथ भारतीय संविधान की प्रस्तावना का वाचन किया। शासकीय पूर्व माध्यमिक शाला सिलतरा विकासखंड धरसींवा जिला रायपुर में संविधान दिवस पर संविधान की प्रस्तावना का पाठ उच्चारित किया गया। रायपुर के छत्तीसगढ़ कालेज में संविधान की प्रस्तावना पर सेमिनार का आयोजन किया गया।

गरियाबंद जिले के प्राथमिक शाला बिन्द्रानवागढ़ में संविधान दिवस पर संविधान की प्रस्तावना का वाचन प्रधान पाठक इदरीश खान ने किया और छात्रों ने इसे दोहराया। भिलाइ के केएच मेमोरियल स्कूल में छात्रों ने संविधान का वाचन प्रिंसिपल विभा झा के साथ दोहराया। प्रिसिंपल ने छात्रों को संविधान के बारे में जानकारी दी। महासमुंद, जगदलपुर, दंतेवाड़ा, बीजापुर, नारायणपुर, कांकेर, धमतरी के प्राथमिक विद्यालयो के साथ कालेजों और महाविद्यालयों में संविधान की प्रस्तावना का वाचन किया गया।

स्कूलों में वितरित की गई है निश्शुल्क पुस्तिका

स्कूल शिक्षा विभाग संयुक्त सचिव व एससीईआरटी के संचालक राजेश सिंह राणा ने बताया कि मूख्यमंत्री की घोषणा के अनुरूप एससीईआरटी द्वारा भारत का संविधान और हम भारत के लोग नाम की दो लघु पुस्तिका छत्तीसगढ़ पाठ्यपुस्तक की ओर से प्रकाशित कर शासकीय स्कूलों में अध्ययनरत कक्षा एक से आठवीं व हम भारत के लोग हाई स्कूल व हायर सेकेंडरी स्कूल में निश्शुल्क वितरित की गई है। इन दोनों लघु पुस्तिका में संविधान की प्रस्तावना, संक्षिप्त परिचय, मौलिक अधिकार, मौलिक कर्तव्य एवं राज्य के नीति निर्देशक तत्वों को बाल मनोविज्ञान के अनुरूप सचित्र प्रस्तुत किया गया है।

Posted By: Ravindra Thengdi

NaiDunia Local
NaiDunia Local